Thursday, 5 January 2023

महाराष्ट्र BJP अध्यक्ष औरंगजेब को ‘जी’ कह कर घिरे, अब कहा- ‘मेरे लिए तो वो क्रूर औरंग्या’


महाराष्ट्र में बयानों को लेकर राजनीति का कोई अंत होता हुआ नजर नहीं आ रहा है. अब बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष चंद्रशेखर बावनकुले मुगल बादशाह औरंगजेब को औरंगजेब जी कह कर घिर गए हैं. एनसीपी नेता अमोल मिटकरी ने उनसे 24 घंटे के भीतर माफी मांगने को कहा है, वरना चेतावनी दी है कि एनसीपी राज्य भर में उनके खिलाफ आंदोलन करेगी. उन्होंने कहा कि जिस क्रूर राजा ने छत्रपति शिवाजी महाराज के बेटे संभाजी महाराज की हत्या की, उसे बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष औरंगजेब जी कैसे कह सकते हैं.


इस पर बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष ने बुधवार को अपने जवाब में कहा कि उन्होंने औरंगजेब को ‘जी’ कह कर संबोधित किया ही नहीं. बीजेपी के लिए औरंगजेब क्या है, यह किसी को समझने और समझाने की जरूरत नहीं है. उनके लिए वो ‘क्रूर औरंग्या’ है.


पहले औरंगजेब को जी बोल गुजरे, बाद में ट्वीट कर मुकरे

दरअसल यह विवाद यूं शुरू हुआ कि एनसीपी विधायक जितेंद्र आव्हाड ने यह बयान दिया था कि यह सच है कि औरंगजेब ने अपने पिता को कैद किया. भाइयों की हत्या की. लेकिन वह हिंदू विरोधी नहीं था. उसने मंदिरों को दान दिए. जितेंद्र आव्हाड पर कमेंट करते हुए चंद्रशेखर बावनकुले ने कहा, ‘जितेंद्र आव्हाड नौटंकी है. उनकी हर बात नौटंकी होती है. अभी औरंगजेब जी को वो क्रूर नहीं मानते.’ यह बयान उन्होंने हिंदी में दिया. यह रहा वो बयान-


कमाल करते हैं आप तो, मान ही नहीं रहे बात को

लेकिन यह कहने के बाद चंद्रशेखर बावनकुले कहते हैं कि वे तो औरंगजेब को औरंग्या कहते हैं. उन्होंने अपनी सफाई में एक ट्वीट किया. इस ट्वीट में उन्होंने लिखा, ‘क्रूरकर्मा, पापी औरंग्या ने छत्रपति श्री संभाजी महाराज (शिवाजी महाराज के बेटे) की क्रूरता से हत्या की. औरंग्या ने काशी विश्वेश्वेर का मंदिर तोड़ा. ऐसे नीच, क्रूरकर्मा को मैं सपने में भी जी कह कर संबोधित नहीं कर सकता. औरंग्या तो पापी और औरंग्या ही कहा जाएगा!!’


हिंदी में दिया बयान, मराठी में दी सफाई

चंद्रशेखर बावनकुले ने कहा कि वे यह कहना चाह रहे थे कि जितेंद्र आव्हाड के लिए औरंगजेब जी है. इसलिए मेरे कहने में जी का संबोधन आया. मैं क्यों पापी औरंग्या को जी कहूं? अब सच जो भी हो, महाराष्ट्र में फिलहाल बस ‘ये बयान, वो बयान, उसका बयान, इसका बयान’ बस यही राजनीति शुरू है.


क्रूरकर्मा औरंग्या हा आव्हाड यांच्यासाठी जी आहे, असे मला म्हणायचे होते. पापी औरंग्याला मी कशाला जी म्हणू? यातील उपरोध जर या लोकांना कळत नसेल तर त्यांच्या बुद्धीची कीव करावी तेवढे कमीच आहे.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.