Tuesday, 20 December 2022

'पारी के बीच में विराट भाई ने मुझसे कहा…तू वीडियो गेम खेल रहा है क्या? अलग चल रहा है तेरा भी’


पहले टी20 फ‍िर वनडे मैचों में गेंदबाजों की धज्जियां उड़ा देने वाले टीम इंडिया के बैटर सूर्यकुमार यादव की नजरें अब टेस्‍ट क्रिकेट पर टिक गई हैं. टेस्‍ट टीम में जगह बनाने के लिए उन्‍होंने रणजी ट्रॉफी में खुद को आजमाने का फैसला किया है. मुंबई का यह मध्‍यक्रम का बल्‍लेबाज मंगलवार (20 दिसंबर) को हैदराबाद के खिलाफ एक्‍शन में नजर आया. इस मैच से पहले स्‍काई ने बीते 6 महीनों में मैदान में किए गए अपने कारनामों के बारे में खुलकर बात की. रणजी ट्रॉफी में उन्होंने अर्धशतक के साथ शुरुआत की है.


टी20 वर्ल्‍ड कप में लगातार 360 डिग्री क्रिकेट खेलकर सबको हैरान कर देने वाले सूर्या ने इस बारे में कहा, मैं घरेलू क्रिकेट और आईपीएल में इस तरह के शॉट खेलता रहा हूं. हालांकि, जब बड़े मंच पर मैं ऐसा करने में कामयाब रहा, तो मुझे भी ताज्‍जुब हुआ. अगले ही दिन मैंने अपनी बल्‍लेबाजी के पिछले तीन महीनों के वीडियो देखें. इन्‍हें देखने के बाद मैंने खुद से कहा, अरे! ये शॉट कैसे खेल दिया…ये कैसे कर दिया मैंने. इंडियन एक्‍सप्रेस से बात करते हुए सूर्या ने कहा कि इसके बाद उन्‍होंने अपने वीडियो लगातार देखने शुरू किए.


‘रोहित भाई बोले, मुझे अब कुछ नहीं कहना तेरे बारे में’

अपने बैठ के, लेट के, गिर के…खेले जाने वाले स्ट्रोक का टीम पर पड़ने वाले असर के सवाल पर सूर्यकुमार ने कहा, रोहित भाई ही इकलौते हैं, जिन्‍होंने मुझे लंबे समय से खेलते हुए देखा है. लेकिन इस सीजन में जब उन्‍होंने मेरे स्ट्रोक देखे तो एक मैच में उन्‍होंने मुझसे कहा, अब मेरे पास तुम्‍हारे बारे में कहने के लिए कुछ नहीं है. इसी तरह, एक बार मैं विराट भाई के साथ बल्लेबाजी कर रहा था. मेरी एक शॉट के बाद उन्‍होंने कहा, तू वीडियो गेम खेल रहा है क्या? अलग चल रहा है तेरा भी. ये बातें सुनकर मुझे अच्छा लगा.


‘राहुल भाई ने कहा, तुम खेल को बदल सकते हो’

सूर्यकुमार के मुताबिक, जब राहुल भाई (द्रविड़) ने मेरी पारियों को देखा, तो उन्‍होंने कहा था कि मैं जिस नंबर बल्‍लेबाजी करता हूं, वहां से मैं गेम को बदल सकता हूं. जब वह टीम के कोच बने, तो मैंने उनसे जाकर कहा कि जब मैच 7-14 ओवर के बीच का हो तो प्लीज मुझे बैटिंग के लिए भेज दें. मैंने उन हालात में मुंबई इंडियंस के लिए कई बार बल्लेबाजी की है. मुझे पता है कि उस विशेष स्थिति में कैसे रन बनाना है. सूर्या ने कहा, मेरा दिमाग साफ था और मैं बस गया और राहुल भाई को बोल दिया. उन्होंने हामी भरते हुए कहा कि जब भी बल्‍लेबाजी के लिए जाओ तो जैसा खेलते आए, हो वैसा ही खेलो.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.