Tuesday, 29 November 2022

"औरतें कपड़े ना भी पहनें तो...' वाले बयान पर रामदेव ने कहा - "माफी मांगता हूं"


योग गुरु बाबा रामदेव ने महिलाओं के पहनावे को लेकर की अपनी आपत्तिजनक टिप्पणी पर माफी मांग ली है. महाराष्ट्र के राज्य महिला आयोग ने रामदेव को नोटिस जारी कर उनसे सफाई मांगी थी. अब आयोग की अध्यक्ष रुपाली चाकणकर ने पुष्टि करते हुए कहा है कि बाबा रामदेव ने अपने कहे पर माफी मांगी है. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक रुपाली ने बताया,


“आयोग ने बाबा रामदेव को नोटिस भेजकर महिलाओं के खिलाफ उनके आपत्तिजनक बयान पर सफाई मांगी थी. उन्होंने जवाब में अपनी टिप्पणी पर माफी मांगी है.”


रिपोर्ट के मुताबिक आयोग को दिए लिखित जवाब में रामदेव ने कहा कि उनका इरादा महिलाओं का अपमान करना नहीं था. योग गुरु का कहना है कि ठाणे में आयोजित कार्यक्रम का उद्देश्य महिला सशक्तिकरण था, ना कि उनकी बेइज्जती करना. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी एक घंटे की वीडियो स्पीच से कुछ सेकेंड का क्लिप निकालकर वायरल किया गया और उनकी बात को गलत तरीके से पेश किया गया.


क्या था बयान?

हाल ही में बाबा रामदेव महाराष्ट्र के ठाणे में आयोजित एक योग शिविर में शामिल हुए थे. वो जब बोल रहे थे उस समय मंच पर महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस भी मौजूद थीं. वहां आई महिलाओं को संबोधित करते हुए रामदेव ने कहा,


“अमृता फडणवीस को जवान रहने का इतना जुनून है कि मुझे लगता है कि वो कभी 100 साल की नहीं होंगी. क्योंकि वो बहुत सोच-समझकर भोजन करती हैं. खुश होती हैं जब बच्चों की तरह मुस्कुरा रही होती हैं."


आगे रामदेव ने कहा,


"कार्यक्रम में मौजूद महिलाएं अपने झोले में साड़ियां लेकर आई थीं. सुबह योग कार्यक्रम शुरू हो गया. इसके बाद दोपहर वाला शुरू हो गया. कोई बात नहीं, घर जाकर पहन लेना. आप साड़ी पहनकर भी अच्छी लगती हैं. सलवार, सूट में भी अच्छी लगती हैं और मेरी तरह से कोई ना भी पहनें तो भी अच्छी लगती हैं. पहले बच्चों को कौन कपड़े पहनाता था? आज बच्चों को कपड़ों की पांच-पांच लेयर पहना दी जाती हैं.”"


वीडियो वायरल होते ही रामदेव विवाद में फंस गए जिसे उन्होंने माफी देकर खत्म करने की कोशिश की है.


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.