Thursday, 29 September 2022

महाराष्ट्र सरकार पर NGT ने लगाया 12 हजार करोड़ का जुर्माना, BJP का आदित्य ठाकरे पर तंज- 'पानी किया काला'


नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने महाराष्ट्र सरकार पर 12 हजार करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है. बीजेपी विधायक अमित साटम ने इसके लिए उद्धव ठाकरे (Aditya Thackeray) सरकार में पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे को जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने बताया कि एनजीटी ने यह जुर्माना महाराष्ट्र सरकार के ठोस और तरल कचरे का प्रबंधन सही तरीके से नहीं करने पर लगाया है, जिसकी वजह से पर्यावरण को काफी नुकसान हुआ. 


विधायक अमित साटम ने चिट्ठी में आदित्य ठाकरे पर निशाना साधते हुए कहा कि वो इसके लिए जिम्मेदार ही नहीं, बल्कि ये जुर्माना उनकी उपलब्धि का प्रमाण पत्र है. आगे लिखा कि वो अपने पिता उद्धव ठाकरे के आशीर्वाद से ही महाविकास आघाड़ी सरकार में पर्यावरण मंत्री बने. क्लाइमेट एक्शन प्लान के नाम पर लोगों से पैसे लेकर विदेश घूम आए और असल में काम तो कुछ नहीं किया. साथ ही आदित्य ठाकरे पर तंज कसते हुए कहा कि हम इसके लिए उन्हें बधाई देते हैं. अब मुंबई के लोगों को काला सागर देखने के लिए यूरोप जाने की जरूरत नहीं है, क्योंकि सारा गंदा और प्रदूषित पानी समुद्र में छोड़ दिया गया है. 


मामला क्या है?

आपको बता दें की सितंबर महीने के पहले हफ्ते में जस्टिस आदर्श कुमार गोइल के बेंच ने महाराष्ट्र सरकार द्वारा ठोस और तरल कचरे के सही से प्रबंधन न करने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए 12 हजार करोड़ रुपये देने को कहा था. एनजीटी के कानून की धारा 15 के अनुसार ये जुर्माना महाराष्ट्र सरकार पर लगाया था. उद्धव ठाकरे की सरकार गिरने के बाद एकनाथ शिंदे गुट और बीजेपी ने मिलकर सरकार बना ली, जिसके बाद से आए दिन बीजेपी और उद्धव ठाकरे गुट के नेता एक-दूसरे पर सियासी हमला कर रहे हैं.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.