Wednesday, 28 September 2022

मैं वंशवाद का प्रतीक, मोदीजी भी खत्म नहीं कर सकते... पंकजा मुंडे का पूरा बयान क्या है, जिस पर मचा है हंगामा

मुंबई: बीजेपी की राष्ट्रीय सचिव पंकजा मुंडे (Pankaja Munde) के भाषण को लेकर घमासान मचा हुआ है। दरअसल पंकजा का भाषण वायरल है क‍ि ज‍िसमें वह मंच से कह रही हैं क‍ि मोदी जी भी करियर खत्म नहीं कर सकते'। यह भाषण प्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिन कार्यक्रम बताया जा रहा है। हालांक‍ि पंकजा मुंडे से भाषण को तोड़-मरोड़ कर पेश करने का आरोप लगाया है। बुधवार को अपना पूरा भाषण ट्विटर पर शेयर करते हुए पंकजा मुंडे ने कहा क‍ि मेरे शब्दों को तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया है। मेरे भाषण के आगे और पीछे की लाइनों पर भी गौर करना चाहिए।


पंकजा मुंडे की ओर से ट्विटर पर भाषण की पूरी रिकॉर्डिंग अपलोड है। इसमें पंकजा मुंडे ने कहा था कि मोदी जी के कार्यक्रम के निमित आप लोग यहां आए हैं। हम लोग चुनाव पद्धति में कुछ बदलाव करने का प्रयास करेंगे। यह चुनाव पुराने तरीके पर न लड़ते हुए किसी अलग विषय पर लड़ेंगे। मतलब यहां जो युवक-युवतियां हैं वो जातपात, पैसा-पावर इनसब से दूर होकर लड़े।


आगे पंकजा मुंडे ने कहा क‍ि मोदी जी को वंशवाद की राजनीति खत्म करनी है। मैं भी वंशवाद का प्रतीक हूं। मुझे कोई खत्म नहीं कर सकता। मतलब मोदी जी ने भी अगर सोचा तो भी शक नहीं कर सकते। जब तक आपके मन में हम हैं तब तक। अगर हमने आपके जीवन में कोई अच्छा काम या बदलाव किया तो आप भी हमें नहीं बदलेंगे। सबसे महत्वपूर्ण बात है अपनी राजनीति में स्वच्छता पारदर्शिता लानी चाहिए। क्योंकि राजनीति में ही सभी बड़े निर्णय होते हैं। यहां बैठे बच्चों को अच्छा भविष्य दिलाने के लिए राजनीति में बदलाव करने होंगे।


कौन हैं पंकजा मुंडे

26 जुलाई 1979 को महाराष्ट्र के परली में जन्मी पंकजा मुंडे बीजेपी के धाकड़ नेता रहे गोपीनाथ मुंडे की पुत्री और स्वर्गीय प्रमोद महाजन की भतीजी हैं। 40 साल की उम्र में पंकजा मुंडे ने समाजसेवा से लेकर राजनीति तक अहम पड़ाव तय किया। पंकजा ने अक्टूबर 2014 में महाराष्ट्र कैबिनेट मंत्री के रूप में तौर पर नामित किया गया। वे परली से विधायिका रही है। हालांक‍ि प‍िछले इलेक्‍शन में अपने चचरे भाई धनंजय मुंडे से विधान सभा में हार का सामना करनी पड़ा था। पंकजा मुंडे इस समय बीजेपी की राष्‍ट्रीय सच‍िव हैं।


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.