Thursday, 17 November 2022

Mumbai : सनकी बॉयफ्रेंड ने गर्लफ्रेंड को बेरहमी से पीटा, गंभीर चोट के बाद मारा लकवा


दिल्ली के श्रद्धा वाकर हत्याकांड ने देशभर में हर किसी को हैरान कर दिया है। उसके बॉयफ्रेंड ने उसकी हत्या कर शव के टुकड़े कर दिए। अब मुंबई में भी एक बॉयफ्रेंड ने अपनी गर्लफ्रेंड के साथ हैवानियत दिखाई है। 24 वर्षीय बीएमएम स्नातक और बीपीओ महिला कर्मचारी अस्पताल में जिंदगी-मौत की जंग लड़ रही है। उसके बॉयफ्रेंड ने उसे इतनी बेरहमी से पीटा कि वह गंभीर रूप से घायल हो गई और उसको लकवा मार गया है। गर्लफ्रेंड के साथ बर्बरता दिखाने पर पुलिस ने आरोपी बॉयफ्रेंड को हिरासत में ले लिया है।


पीड़िता का नाम प्रियांगी है। पुलिस ने बताया है कि शनिवार रात दहिसर में एक कॉमन फ्रेंड की बिल्डिंग की छत पर बॉयफ्रेंड अमेय दरेकर (25) के हमले से प्रियांगी की रीढ़ की हड्डी में कई फ्रैक्चर हो गए। सिर में चोट आई है और कमर के नीचे लकवा मार गया है। घटना के बाद अमेय ने अपनी मां के साथ रविवार को सुबह करीब 8 बजे बेहोश प्रियांगी को उसके मलाड (ई) स्थित घर पर छोड़ा था।


छह घंटे हुई रीढ़ की हड्डी की सर्जरी

डिंडोरी थाने में अमेय और उसकी मां राधिका दरेकर के खिलाफ रविवार को प्रियांगी के साथ मारपीट करने का मामला दर्ज किया गया। आगे की पूछताछ के लिए दहिसर ट्रांसफर कर दिया गया है। वहीं प्रियांगी को कोकिलाबेन अस्पताल में भर्ती करवाया गया है, जहां उसकी मंगलवार को छह घंटे से ज्यादा समय तक रीढ़ की हड्डी की सर्जरी हुई और उसे 14 स्क्रू इम्प्लांट किए। वह गंभीर है और सिर की सर्जरी होनी बाकी है। पुलिस प्रियांगी के पिता पेट्रोल पंप मालिक मुनीश सिंह (46) को दहिसर की बिल्डिंग पर लेकर गई और छत का दौरा किया। मुनीश सिंह ने कहा,'अमेय और उसकी मां ने बेटी को घर में अधमरा छोड़ा था। पुलिस मुझे दहिसर में एक हाई राइज बिल्डिंग पर ले गई, जहां पानी की टंकी पर घटना हुई थी। अमेय का दोस्त उस बिल्डिंग में रहता है और मेरी बेटी उसे वहां मिली थी। मेरी बेटी ने घर पर कहा था कि वह अपने दोस्तों के साथ काम के लिए जा रही।'


बेहोशी की हालत में छोड़ा घर

प्रियांगी के पिता ने आगे कहा, 5 सितंबर को हमें पता चला कि अमेय ने एक ऑटो रिक्शा में प्रियांगी के साथ मारपीट की है, लेकिन मेरी बेटी ने उसका बचाव करते हुए कहा कि अमेय उसका अच्छा दोस्त है और वह उसे कॉलेज के दिनों से जानती थी। शनिवार को मेरी बेटी काम से घर नहीं लौटी और उसका मोबाइल फोन नहीं लग रहा था। रविवार की सुबह, जब मैं अपनी पत्नी रेणु के साथ सुबह 8 बजे सैर से लौटा तो मैंने देखा कि मेरी बेटी बिस्तर पर बेहोश पड़ी है और कोई प्रतिक्रिया नहीं दे रही है। मैंने उसके सिर, पैर और टखने पर चोट के निशान देखे। हमारी घरेलू सहायिका ने कहा कि अमेय और उसकी मां आए थे। उन्होंने मेरी बेटी के बैग को उसे दिया और उससे यह कहा कि प्रियांगी सो रही उसे कैब से उठा लो। फिर मेरे ड्राइवर और सहायिका उसे उठाकर अंदर ले आए। मां-बेटे ने घर में एंट्री नहीं की। शनिवार को दहिसर की बिल्डिंग के सीसीटीवी में मेरी बेटी नजर आई है और अमेय ने बिल्डिंग में रात 9 बजे एंट्री की थी। रविवार को करीब 6 बजे वह उसे एक रिक्शा में अपने बोरीवली घर ले जाते हुए नजर आया, जहां उसकी मां ने उसके खून से सने कपड़े साफ करने में मदद की होगी।' पुलिस ने अमेय और उसकी मां राधिका दरेकर के खिलाफ के आईपीसी की धारा 307 (हत्या की कोशिश) और धारा 34 के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.