Wednesday, 2 November 2022

गहलोत के राजनीतिक दांवपेच में उलझे PM मोदी ! आखिर क्यों नहीं मिला मानगढ़ धाम को ‘मान’

देश के करोड़ों आदिवासियों की आस्था का स्थल मानगढ़ धाम एक बार फिर राजनीतिक दांव-पेच की भेंट चढ़ गया और प्रधानमंत्री के 10 साल बाद मानगढ़ धाम पहुंचने पर भी इसे राष्ट्रीय स्मारक का दर्जा नहीं मिला. माना जा रहा था कि मंगलवार को बांसवाड़ा में मानगढ़ की गौरव गाथा कार्यक्रम में पीएम मोदी इसे स्मारक को राष्ट्रीय महत्व का दर्जा देंगे. वहीं गुजरात में होने वाले चुनाव और अगले साल राजस्थान और मध्यप्रदेश के चुनावों को देखते हुए बीजेपी का आदिवासी वोटबैंक साधने की दिशा में बड़ा कदम माना जा रहा था. बताया जा रहा कि पीएम मोदी के ऐलान नहीं करने से आदिवासी समाज में निराशा है.


मालूम हो कि पीएम मोदी का मानगढ़ दौरा तय होने के बाद गहलोत ने प्रधानमंत्री को दो पत्र लिखे थे जिसके बाद मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि पहले यह चारों राज्य (राजस्थान, गुजरात, मध्यप्रदेश व महाराष्ट्र) मिलकर मानगढ़ धाम का सम्पूर्ण विकास करें और सामूहिक कार्ययोजना बनाएं कि क्या किया जा सकता है, फिर राष्ट्रीय स्मारक या कुछ और कुछ भी, घोषणा तो कभी भी हो जाएगी.


माना जा रहा है कि गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को राजनीतिक रूप से उलझन में डाला लेकिन मोदी ने उस उलझन को वापस गहलोत सहित चार राज्यों (राजस्थान, गुजरात, मध्यप्रदेश व महाराष्ट्र) मुख्यमंत्रियों के पाले में डाल दिया.


कहां अटक गई मानगढ़ की घोषणा ?

मालूम हो कि गहलोत लगातार मानगढ़ को लेकर मांग दोहरा रहे थे और बीते दो दिन पहले उन्होंने कहा था कि मोदी मानगढ़ धाम में जैसे ही राष्ट्रीय स्मारक बनाने की घोषणा करेंगे वैसे ही गुजरात चुनावों में आदिवासियों को रिझाने का उनका लक्ष्य पूरा हो जाएगा. वहीं गहलोत ने तंज कसते हुए कहा था कि यह इवेंट खत्म होते ही गुजरात में चुनावों की घोषणा हो जाएगी.


माना जा रहा है कि अगर मानगढ़ को मोदी मंगलवार को राष्ट्रीय स्मारक घोषित करते तो इसका काफी हद तक राजनीतिक श्रेय गहलोत को जाता और वह आने वाले दिनों में यह दावा करते कि हमारी मांग, पत्र और आग्रह के बाद मानगढ़ राष्ट्रीय स्मारक बना है.


वहीं मानगढ़ गुजरात और राजस्थान की सीमा पर है और गुजरात में अगले 30-35 दिनों में चुनाव होने हैं ऐसे में कांग्रेस इसे चुनाव में जमकर भुना सकती थी. वहीं गहलोत कांग्रेस के गुजरात में सीनियर पर्यवेक्षक भी हैं और ऐसे में राजनीतिक हितों को देखते हुए मोदी ने स्वयं को यह घोषणा करने से रोक लिया.


गहलोत ने मोदी पर कसा तंज

वहीं गहलोत ने भाषण में मोदी पर चुटकी लेते हुए कहा कि आज हमारे देश का डंका पूरी दुनिया में बज रहा है और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दुनिया भर में सम्मान मिलता है. गहलोत ने कहा कि पीएम मोदी को दुनिया के देशों में इसलिए सम्मान मिलता है कि वह महात्मा गांधी के देश से आते हैं.


वहीं सीएम ने कहा कि दुनिया जानती है पीएम मोदी उस देश से आते हैं जहां 70 साल बाद भी लोकतंत्र जिंदा है. इसके अलावा सीएम गहलोत ने पीएम मोदी से कहा कि राजस्थान की चिरंजीवी योजना को वह देशव्यापी स्तर पर अगर एग्जामिन कराएंगे तो पूरे देश में लागू की जा सकती है.


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.