Thursday, 24 November 2022

Mumbai : उदयनराजे भोसले ने राष्ट्रपति मुर्मू व पीएम मोदी को लिखा पत्र, कोश्यारी को बर्खास्त करने कि की मांग


मुंबई : महाराष्ट्र के राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी की छत्रपति शिवाजी महाराज को लेकर हालिया टिप्पणी को ध्यान में रखते हुए, छत्रपति शिवाजी महाराज के वंशज, राज्यसभा सांसद उदयनराजे भोसले ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखते हुए, भगत सिंह कोश्यारी को उनके पद से बर्खास्त करने की मांग की है।


महाराष्ट्र के राज्यपाल को हटाने की मांग 

पत्र में सांसद उदयनराजे भोंसले ने मांग की है कि राज्यपाल और बीपी के प्रवक्ता द्वारा दिए गए बयान राष्ट्र की मान्यताओं के बहुत विरोध हैं। यह तभी सही होगा जब आप महाराष्ट्र के राज्यपाल को हटाने के लिए कुछ उपाय कर सकें। उन्होंने लिखा कि इस मौजूदा परिस्थितों को हल करने में आपके कार्य और विचार-विमर्श महाराष्ट्र और देश के लोगों में विश्वास कायम करने में बेहद महत्वपूर्ण साबित होंगे। आप छत्रपति शिवाजी महाराज के लिए लोगों की आस्था और विश्वास के साथ एकजुटता से खड़े हैं।


सुधांशु त्रिवेदी के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग

पत्र में यह भी कहा गया है कि, 'मैं व्यक्तिगत रूप से भगत सिंह कोश्यारी द्वारा छत्रपति शिवाजी महाराज के खिलाफ दिए गए बयानों की निंदा करता हूं। भोसले ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि पहले महाराष्ट्र के राज्यपाल ने भी महात्मा ज्योतिबा फुले और सावित्रीबाई फुले के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। कोश्यारी के बयानों पर आम जनता ने भी आपत्ति जताई लेकिन माननीय राज्यपाल ने अपनी भड़काऊ टिप्पणियों को नहीं रोका। भोंसले ने केंद्रीय मंत्री अमित शाह, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को भी पत्र लिखा और सुधांशु त्रिवेदी के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग की।


बाबासाहेब अंबेडकर मराठवाड़ा विश्वविद्यालय में दिया था बयान 

दरअसल, 19 नवंबर शनिवार को औरंगाबाद में डॉ बाबासाहेब अंबेडकर मराठवाड़ा विश्वविद्यालय में एक समारोह को संबोधित करते हुए, महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने कहा, कि अगर कोई पूछता है कि आप किसे अपना आदर्श मानते हैं तो आपको कहीं बाहर जाने की जरूरत नहीं है, आपको महाराष्ट्र में ही आदर्श मिल जाएंगे। शिवाजी महाराज तो पुराने समय की बात है। आज के समय में डॉक्टर आंबेडकर से लेकर नितिन गडकरी तक आदर्श आपको मिल जाएंगे। भोसले ने कहा कि महाराष्ट्र के प्रतिष्ठित व्यक्ति राजनीतिक संबद्धता से परे हैं, मराठा योद्धा पर राज्यपाल की टिप्पणी नेताओं को अच्छी नहीं लगी।।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.