Saturday, 19 November 2022

शिंदे गुट में शामिल होंगी नीलम गोरे? मुंबई में CM एकनाथ शिंदे के साथ की मुलाकात


मुंबई: महाराष्ट्र (Maharashtra) की राजनीति में अक्सर कुछ न कुछ नया देखने को मिलता है। शुक्रवार रात को विधान परिषद के उपसभापति डॉ. नीलम गोरे (Neelam Gorhe) और मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे (CM Eknath Shinde) की मुलाकात हुई। अब इस मुलाकात की खबर सामने आई। डॉ. नीलम गोरे  (Neelam Gorhe) और मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के बीच करीब आधे घंटे तक चर्चा हुई है। वहीं, अब नीलम गोरे शिंदे गुट में शामिल हो सकती है, इस बात की चर्चा हो रही है। इसी बीच नीलम गोरे ने एक टीवी चैनल को बताया कि, उन्होंने मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से मुलाकात की थी। लेकिन यह कहते हुए कि यह मुलाकात अचानक हुई। 


“आप मुख्यमंत्री से मिले हैं। राजनीति में इस दौरे की चर्चा हो रही है। तो यह मुलाकात कैसी थी ?” ऐसा सवाल नीलम गोरे (Neelam Gorhe) से पूछा गया। उस पर नीलम गोरे ने जोर देकर कहा कि, इस मुलाकात को गलत तरीके से लेने की जरूरत नहीं। उन्होंने आगे कहा कि, “आपको मूल रूप से जो सूचना प्राप्त हुई है, ऐसा प्रतीत होता है कि वह एक अलग रूप में आई है। मैं लोकसभा अध्यक्ष ओमप्रकाश बिड़ला से मिलने गई थी। वह इस समय मुंबई में है।” आगे नीलम गोरे ने कहा, ‘जब मैं वहां गई तो 10वीं मंजिल पर खुद मुख्यमंत्री और अन्य लोग बैठे थे।’


हालांकि, ओम प्रकाश बिड़ला क्या कर रहे थे, इसकी जानकारी भी नीलम गोरे ने दी। नीलम गोरे ने आगे कहा, ” मुझे उनसे कुछ बात करनी थी। साथ ही लोकसभा और विधानमंडल के कार्यक्रम से जुड़े कुछ विधायी मामले भी थे, जिन पर मैंने ओमप्रकाश बिड़ला से चर्चा की। वहां वे (मुख्यमंत्री) बिड़ला से बात कर रहे थे। इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर आए। उन्होंने आकर गुलदस्ता दिया। ऐसी ओमप्रकाश बिड़ला से आम मुलाकात हुई थी। यह सच है कि एकनाथ शिंदे थे। लेकिन कोई राजनीतिक चर्चा नहीं हुई। 


आगे बोलते हुए उन्होंने मीडिया की रिपोर्टिंग को लेकर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा, “फिर भी, अगर आधे घंटे की बंद कमरे में चर्चा के रूप में खबर आती है, अगर मुझे पता है कि आपके पास आधार है या नहीं, तो मैं भी इस बारे में बात कर सकती हूं।”


“ऐसी चर्चा है कि आप शिंदे समूह में शामिल होंगे, आप इस बारे में क्या कहते हैं?” इस सवाल के जवाब में गोरे ने कहा- “यह मुलाकात एक महज एक संयोग थी। जब मैं मिलने गई तो वहां मुख्यमंत्री मौजूद थे। लेकिन, हमारे बीच कोई भी राजनीतिक चर्चा नहीं हुई है।”


उन्होंने कहा, ‘राजनीति की बात करें तो शिंदे गुट में शामिल होने का सवाल ही नहीं उठता। मेरी इच्छा भी नहीं, यह आप जानते हैं। इसलिए बिना मुझसे चर्चा किए आपने खबरें फैलाकर आपने सबका मनोरंजन किया। अगर आपने मुझसे चर्चा की होती, अगर आपने वहां से जाने के बाद मुझे फोन किया होता तो गलतफहमी नहीं होती।”

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.