Friday, 18 November 2022

चप्पलों से महिला ने की ट्रैफिक कांस्टेबल की पिटाई, चढ़ी पुलिस के हत्थे


पुणे में एक महिला ने महिला ट्रैफिक कांस्टेबल के साथ मारपीट की है। नो-पार्किंग एरिया में आरोपी महिला की मोटरसाइकिल उठाने को लेकर दोनों के बीच झगड़ा शुरू हो गया था। गुस्से में आरोपी महिला ने उसके साथ मारपीट की। आरोप है कि, महिला ने ट्रैफिक कांस्टेबल को चप्पलों से पीटा है। आइए जानते हैं क्या पूरा मामला 


पुलिस लोगों की सुरक्षा और कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए हर संभव कोशिश करती हैं। कानून व्यवस्था का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ पुलिस कार्रवाई भी करती रहती है, लेकिन कुछ ऐसी भी लोग होते हैं जिनसे अंदर पुलिस का जरा भी डर नहीं होता है और उल्टा वह पुलिस ने लड़ बैठते हैं। इसका ताजा उदाहरण पुणे में देखने को मिला है, जहां एक सनकी महिला ने महिला ट्रैफिक पुलिस के साथ मारपीट की है। बुधवार को तिलक चौक पर ड्यूटी पर तैनात एक महिला ट्रैफिक कांस्टेबल को चप्पलों से पीटने के आरोप में पुलिस ने 35 वर्षीय एक महिला को गिरफ्तार किया है। आरोपी महिला की पहचान ताड़ीवाला रोड के सीता रमेश पुजारी के रूप में हुई है।


पुलिस के मुताबिक, नो-पार्किंग एरिया से आरोपी महिला की मोटरसाइकिल उठाने को लेकर उसकी महिला ट्रैफिक कांस्टेबल से तीखी नोकझोंक हो गई थी, जिसके बाद मामला इतना बढ़ गया कि मारपीट की नौबत आ गई। वहीं मारपीट के बाद महिला कांस्टेबल ने पुलिस में आरोपी महिला के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई। महिला कांस्टेबल की शिकायत के अनुसार, जब वह बुधवार दोपहर 1:30 बजे तिलक चौक पर ट्रैफिक की निगरानी कर रही थी, तब आरोपी महिला ने महिला कांस्टेबल से संपर्क किया और पूछा कि उसकी मोटरसाइकिल क्यों उठाई गई। महिला कांस्टेबल के अनुसार, उसने आरोपी से कहा कि, वह इस बारे में अनजान है क्योंकि जिस जगह से वाहन उठाया गया था वह उसके एरिया में नहीं आता है।


महिला कांस्टेबल ने उसे पास के एक ट्रैफिक पुलिस अधिकारी से संपर्क करने के लिए कहा। हालांकि, आरोपी ने कहा कि, महिला कांस्टेबल ट्रैफिक पुलिस में हैं इसके बारे में पता होना चाहिए। महिला कांस्टेबल के जवाब से गुस्साई आरोपी महिला ने गाली-गलौज शुरू कर दी और उसकी पिटाई कर दी। महिला ने कथित तौर पर ट्रैफिक कांस्टेबल को चप्पलों से पीटा, उसके बाल पकड़कर घसीटा और उसकी वर्दी फाड़ दी।विश्रामबाग पुलिस स्टेशन में धारा 353 , 332 , 323 के तहत मामला दर्ज किया गया है। भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) के 504 (शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमान) भी लगाई गई है।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.