Monday, 21 November 2022

मुश्किलों में फंसे राज कुंद्रा, लगा अश्लील वीडियोज शूट करने का आरोप, दायर हुई नई चार्जशीट


बॉलीवुड एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी के पति और बिजनेसमैन राज कुंद्रा की मुश्किलें खत्म होने का नाम नहीं ले रहीं। दरअसल, महाराष्ट्र साइबर पुलिस ने पोर्नोग्राफी केस में राज कुंद्रा, शर्लिन चोपड़ा और पूनम पांडे के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दी है। साइबर पुलिस ने अपनी चार्जशीट में इस बात का दावा किया है कि राज कुंद्रा ने मुंबई के आस-पास स्थित फाइव स्टार होटल में अश्लील फिल्मों की शूटिंग कर उन्हें ओटीटी प्लेटफॉर्म को बेचा था। इतना ही नहीं साइबर सेल ने यह तक बताया है कि राज कुंद्रा ने इस डील से करोड़ाें की कमाई भी की थी। 


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक साइबर सेल ने राज कुंद्रा, मॉडल शर्लिन चोपड़ा, पूनम पांडे, फिल्म निर्माता मीता झुनझुनवाला और कैमरामैन राजू दुबे के खिलाफ 450 पन्नों की चार्जशीट दायर की है। चार्जशीट में बताया गया है कि बनाना प्राइम ओटीटी के सुवाजीत चौधरी और राज कुंद्रा के कर्मचारी उमेश कामथ का भी नाम लंदन स्थित कंपनी 'हॉटशॉट' में बतौर प्रबंधक दर्ज है। इतना ही नहीं मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सुवाजीत चौधरी और उमेश कामथ पर अश्लील सामग्री वाली वेब सीरीज 'प्रेम पगलानी' बनाने और ओटीटी पर अपलोड करने का भी आरोप है।

वहीं, पूनम पांडे पर अपना खुद का मोबाइल एप 'द पूनम पांडे' डेवलप करने, राज कुंद्रा की कंपनी की मदद से वीडियो शूट करने, अपलोड करने और प्रसारित करने का भी आरोप है। साइबर पुलिस के अनुसार, कैमरामैन राजू दुबे ने शर्लीन चोपड़ा के वीडियो भी शूट किए थे, जबकि झुनझुनवाला पर उनके (शर्लीन चोपड़ा) लिए कहानी लिखने और निर्देशित करने में सहायता करने और उकसाने का आरोप है। इतना ही नहीं इस बात की जानकारी भी दी गई है कि 'हॉटशॉट' कंपनी का स्वामित्व राज कुंद्रा के बहनोई प्रदीप बख्शी की कंपनी 'केनिन' के पास है, जो यूके में रजिस्टर्ड है।


चार्जशीट में इस बात का भी खुलासा किया गया है कि पोर्नोग्राफी मामले में राज कुंद्रा की कंपनी 'आर्म्सप्राइम' को इन सभी आरोपियों से पैसा मिले थे। इसलिए चार्जशीट में इस कंपनी पर अपराध में मदद करने का आरोप है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो पुलिस इस मामले में अब भी कुछ मॉडल्स की तलाश कर रही है, जिन्होंने बोल्ड फिल्मों में काम किया है।


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.