Tuesday, 22 November 2022

महाराष्ट्र में बारिश से नुकसान ग्रस्त किसानों को अब सरकार ने दी राहत ,नहीं चुकाना पड़ेगा बिजली का बिल!


महाराष्ट्र: इस साल सितंबर-अक्‍टूबर में हुई भारी बारिश से प्रभावित किसानों के लिए राहत भरी खबर है. ऐसे किसानों को बिजली बिल जमा करने से छूट दी जा रही है. महाराष्‍ट्र सरकार ने अपने किसानों को यह राहत दी है और कहा है कि जिन किसानों को भारी बारिश की वजह से नुकसान हुआ है, उन्‍हें बिजली बिल जमा करने के लिए बाध्‍य नहीं किया जा सकता है.


महाराष्‍ट्र के उप मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा, राज्‍य की बिजली से जुड़ी एजेंसियां ऐसे किसानों पर बिल जमा करने के लिए दबाव नहीं डालेंगी, जिन्‍हें बारिश की वजह से काफी नुकसान पहुंचा है. इन किसानों को दो महीने का बिजली बिल नहीं जमा करना पड़ेगा. इसका मतलब है कि महाराष्‍ट्र में भारी बारिश से प्रभावित लाखों किसान सितंबर और अक्‍टूबर महीने का बिजली बिल नहीं जमा करेंगी.उन्‍होंने यह भी कहा कि जो किसान बिजली बिल चुकाने में सक्षम होंगे, उन्‍हें इसका भुगतान करना होगा.


क्‍या आदेश दिया फडणवीस ने

महाराष्‍ट्र के उप मुख्‍यमंत्री व बिजली मंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा, मैंने राज्‍य की बिजली वितरण कंपनी के अधिकारियों को आदेश दिया है कि किसानों को बिजली बिल जमा करने के लिए दबाव नहीं डाला जाए. खासकर ऐसे किसानों पर जिनकी फसल भारी बारिश की वजह से बर्बाद हो गई है. साथ ही अधिकारियों से कहा गया है कि किसानों से सिर्फ इसी सीजन का बिजली बिल ही वसूला जाए.


फडणवीस ने कहा, जिन किसानों का बिजली बिल लंबे समय से शेष है और उनके कनेक्‍शन काटे जाने की कार्रवाई चल रही, उन्‍हें सिर्फ इसी मौसम का बिल जमा करने से ही बड़ी राहत मिल जाएगी और उनका कनेक्‍शन नहीं काटा जाएगा.जो किसान अपने बिजली बिल का भुगतान करने में सक्षम हैं, उन्‍हें जरूर चुकाना चाहिए.


किसानों पर हजारों करोड़ का बिल बकाया

महाराष्‍ट्र की बिजली वितरण कंपनी MSEDCL के अनुसार, सिर्फ पश्चिमी महाराष्‍ट्र के किसानों पर ही 8,000 करोड़ से ज्‍यादा का बिजली बिल शेष है. कंपनी ने यह भी कहा है कि अगर किसान अपने बिल का भुगतान करते हैं तो उन्‍हें 50 फीसदी की छूट दी जाएगी और सिर्फ 4 हजार करोड़ का ही भुगतान करना होगा. हालांकि, उप मुख्‍यमंत्री फडणवीस के नए आदेश के बाद किसानों को और राहत मिल गई है. अब उन्‍हें सिर्फ इसी मौसम का बिल भरना होगा और उनका कनेक्‍शन नहीं काटा जाएगा.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.