Saturday, 19 November 2022

‘गुजरात इसे बर्दाश्त नहीं करेगा’, राहुल की मेधा पाटकर से मुलाकात पर हमलावर हुई BJP


गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस नेताओं के बीच राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोपों का दौर जारी है. इस बीच, गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर के शामिल होने पर आपत्ति जताई है. हाल ही में महाराष्ट्र के वाशिम में भारत जोड़ो यात्रा के दौरान मेधा पाटकर राहुल गांधी से मिली थीं. इस मुलाकात के बाद से भारतीय जनता पार्टी के नेता कांग्रेस पर हमलावर हैं.



राहुल गांधी के साथ मेधा पाटकर की मुलाकत पर गुजरात के सीएम भूपेंद्र पटेल ने ट्वीट किया, ‘कांग्रेस और राहुल गांधी ने बार-बार गुजरात और गुजरातियों के प्रति अपनी दुश्मनी दिखाई है. मेधा पाटकर को अपनी यात्रा में स्थान देकर राहुल गांधी ने दिखाया कि वे उन तत्वों के साथ खड़े हैं, जिन्होंने दशकों तक गुजरातियों को पानी से वंचित रखा. गुजरात इसे बर्दाश्त नहीं करेगा.


सीआर पाटिल ने कांग्रेस पर साधा निशाना

गुजरात भाजपा प्रमुख सीआर पाटिल ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि आज कांग्रेस उस अर्बन नक्सल के साथ भारत तोड़ो यात्रा कर रही है जो गुजरात के विकास के खिलाफ था. गुजरात उन लोगों का कभी समर्थन नहीं करेगा, जिन्होंने अर्बन नक्सलियों को अपनी तरफ किया है. वहीं, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) डर, घृणा और हिंसा फैला रही है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि देश इन परिस्थितियों में प्रगति नहीं कर सकता है.


घृणा से कभी भी देश को लाभ नहीं होगा : राहुल गांधी

राहुल गांधी ने कहा कि घृणा से कभी भी देश को लाभ नहीं होगा और जो लोग निजी जीवन में हिंसा का सामना करते हैं, वे निर्भीक हैं और वे कभी भी दूसरों को चोट नहीं पहुंचाएंगे और न ही समाज में दुर्भावना फैलाएंगे. वहीं, भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने भारत जोड़ो यात्रा को लेकर राहुल गांधी पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि विपक्षी दल देश को सिर्फ तोड़ सकता है, जोड़ नहीं सकता.


जेपी नड्डा ने कहा कि मैं सोचता हूं कि कांग्रेस ने भारत जोड़ो यात्रा शुरू की है या भारत तोड़ो यात्रा. उसके नेता भारत को जोड़ने की बात कर रहे हैं. लेकिन वास्तविक जीवन में वे क्या करते हैं? उनके नेता राहुल गांधी दिल्ली में जेएनयू (जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय) गए और उनका समर्थन किया जिन्होंने संसद पर हमले के मास्टरमाइंड अफजल गुरु के समर्थन में नारे लगाए थे .


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.