Wednesday, 19 October 2022

Mumbai: मुंबई में साइकिल ट्रैक्स बनाना क्यों है मुश्किल? केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बताई समस्या

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने कहा है कि देश की आर्थिक राजधानी मुंबई (Mumbai) में जगह की तंगी के कारण साइकिल ट्रैक्स बनाना मुश्किल है. उन्होंने रेखांकित किया कि साइक्लिंग की स्वस्थ आदत को बढ़ावा देना जरूरी है. उन्होंने आगे बताया कि टीयर-2 और टीयर-3 शहरों में खास ट्रैक्स को हम बना सकते हैं. गडकरी फिलिफ कैपिटल के एक कार्यक्रम को सोमवार की शाम संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा, "मैं आपके (साइकिल ट्रैक्स) के विचार का समर्थन कर रहा हूं. लेकिन मेरी व्यावहारिक समस्या है.



मुंबई में साइकिल ट्रैक्स नहीं बनने की क्या है समस्या?

शहरी क्षेत्र में सड़क को चौड़ा करना बहुत मुश्किल है. मुंबई में हम साइकिल ट्रैक्स नहीं बना सकते हैं." गडकरी ने स्पष्ट कहा कि मुंबई में अतिक्रमण और सियासी समस्याएं हैं. उसकी वजह से खास साइकिल ट्रैक्स बनाने का काम मुश्किल है. केंद्रीय मंत्री की टिप्पणी मुंबई में सबसे महत्वकांक्षी 40 किलोमीटर साइकिल ट्रैक परियोजना शुरू नहीं होने की खबरों के बीच आई है.


देश में साइकिल निर्माण की मजबूत संभावना-गडकरी

गडकरी ने बताया कि उनके गृह शहर नागपुर में एक साइकिल ट्रैक बन रहा है और बताया कि राष्ट्रीय राजमार्ग से गुजरनेवाले कुछ शहरों में भी जल्द उसी तरह का ढांचा होगा. उन्होंने कहा कि देश में साइकिल निर्माण के लिए मजबूत संभावना है. उसका संकेत इस बात से मिल जाता है कि वर्तमान में निर्यात 25-30 हजार करोड़ का है. गडकरी ने बताया कि सरकार निर्माण में लगे ठेकेदारों को 'क्रेडिट रेटिंग' देने पर विचार कर रही है.


नई परियोजना के लिए निविदा भरते वक्त पूर्व का अच्छा रिकॉर्ड होने पर बोनस प्वाइंट्स संस्थान को मिलेगा. उन्होंने बताया कि FASTag सिस्टम देश में लागू करने के बाद मंत्रालय एक नया सिस्टम बनाने पर काम कर रहा है. सिस्टम में ऐसी व्यवस्था होगी कि गाड़ी के रजिस्ट्रेशन की विस्तृत जानकारी राजमार्ग के एंट्री और निकासी पर हासिल कर ली जाएगी.


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.