Saturday, 8 October 2022

शिंदे-फडणवीस सरकार के 100 दिन पूरे, महाराष्ट्र की जनता को क्या-क्या मिला?


महाराष्ट्र में शिंदे-फडणवीस सरकार के आज (शनिवार, 8 अक्टूबर) 100 दिन पूरे हो रहे हैं. 30 जून को एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में यह सरकार अस्तित्व में आई. शिंदे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की और फडणवीस ने उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. महाविकास आघाड़ी सरकार ढाई साल चलने के बाद सीएम एकनाथ शिंदे ने उद्धव ठाकरे के नेतृत्व के खिलाफ यह कह कर बगावत कर दी कि उनके नेतृत्व में शिवसेना हिंदुत्व की राह से और बालासाहेब के विचारों से हट चुकी है. इस तरह शिवसेना के 55 में से 40 विधायकों को लेकर वे बीजेपी से मिल गए.


शिंदे की बगावत के बाद राज्य में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महाविकास आघाड़ी सरकार अल्पमत में आ गई और गिर गई. इसके बाद राज्य में अगले ढाई सालों के लिए शिंदे-फडणवीस की सरकार बनी. इन ढाई सालों के बाद महाराष्ट्र में विधानसभा का चुनाव होगा और तब चुनाव के बाद नई सरकार का गठन होगा. ढाई सालों के लिए आई शिंदे-फडणवीस सरकार के पहले 100 दिन पूरे हुए हैं. इस दौरान इस सरकार ने 700 से ज्यादा फैसले लिए हैं. उनमें से कुछ अहम फैसलों के बारे में हम यहां चर्चा कर रहे हैं.


शिंदे-फडणवीस सरकार के विकास के कामों का हिसाब

शिंदे-फडणवीस के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार ने समृद्धि हाइवे का एक्सटेंशन गढ़चिरोली तक करने का फैसला किया. मुंबई मेट्रो तीन के कोलाबा-बांद्रा-सीप्ज रूट के बढ़े हुए 10 हजार करोड़ के बजट को मान्यता दी. मुंबई की सड़कों को गड्ढे मुक्त करने के लिए 5 हजार 500 करोड़ के बजट की मंजूरी दी. मुंबई के धारावी स्लम के पुनर्विकास के लिए नए सिरे से टेंडर मंगवाने का फैसला किया गया. नागपुर मेट्रो प्रोजेक्ट के लिए बढ़े हुए बजट को मान्यता देते हुए 9279 करोड़ के खर्चे को मंजूरी दी. एमएमआरडीए के अलग-अलग प्रोजेक्ट के लिए 60 हजार करोड़ तक के कर्ज लेने की मंजूरी दी.


शिंदे-फडणवीस सरकार बनने से आम आदमी को क्या मिला?

इसके लिए आम आदमी को राहत पहुंचाने के लिए पेट्रोल दरों में 5 रुपए और डीजल की दरों में तीन रुपए की कटौती का भी फैसला किया गया. दिवाली से पहले राज्य के 1 करोड़ 70 लाख राशनधारकों को सिर्फ 100 रुपए में एक किलो रवा, एक किलो चना दाल, एक किलो शक्कर और एक लीटर पाम तेल दिया जाएगा. इससे राज्य के 7 करोड़ लोगों तक यह दिवाली गिफ्ट पहुंचेगा. इसके अलावा 7231 पुलिसकर्मियों की भर्ती का फैसला किया गया. एमपीएससी के तहत आने वाले 100 फीसदी और एमपीएससी के तहत नहीं आने वाले 50 फीसदी पद में भर्ती के फैसले किए गए. गुप सी के क्लर्कों के सभी रिक्त पदों को एमपीएससी के तहत भरने का फैसला किया गया. पुलिसकर्मियों की कैजुअल लीव को 12 से बढ़ाकर 20 कर दिया गया.


गांवों के लिए क्या किया? गरीबों और किसानों को क्या दिया?

शपथ लेने के बाद सीएम शिंदे ने जो दो बातों को उन्होंने सबसे अहम बताया था उनमें एक तो यह कि उनकी सरकार विकास को रफ्तार देगी और दूसरा किसानों के आंसू पोंछने का काम करेगी. शुक्रवार के ही यानी 100 दिन पूरे होने से एक दिन पहले देवेंद्र फडणवीस ने घोषणा की कि किसानों को 12 घंटे तक बिजली दी जाएगी और जिस जलयुक्त शिवार योजना को महाविकास आघाड़ी सरकार ने बंद कर दिया था, उसे पूरी क्षमता से फिर शुरू किया जाएगा.


14 लाख किसानों को 50 हजार रुपए तक का प्रोत्साहन दिया जा रहा है. ज्यादा बाढ़ और बरसात से तबाह किसानों को मदद के लिए 2 एकड़ की बजाए 3 एकड़ तक की सीमा बढ़ाई गई. बाढ़ग्रस्त कहलाए जाने की शर्तों में नहीं आने वाले किसानों के लिए भी 755 करोड़ रुपए की सहायता राशि का ऐलान किया गया.


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.