Wednesday, 19 October 2022

CM एकनाथ शिंदे ने लिखा PM नरेंद्र मोदी को पत्र, कहा- ‘इस मामले पर दें ध्यान’

मुंबई: महाराष्ट्र (Maharashtra) के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे (CM Eknath Shinde) ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को एक पत्र लिखा है। उन्होंने अपने इस पत्र के जरिए पीएम मोदी (PM Modi) से अपील की है। एकनाथ शिंदे ने अपने पत्र में चीनी निर्यात के लिए कोटा प्रणाली के बजाय खुली नीति जारी रखने को कहा है। चीनी के मामले में वर्तमान खुली निर्यात नीति को जारी रखा जाना चाहिए।


महाराष्ट्र में चीनी फैक्ट्रियां (Sugar Factory) कोटा प्रणाली के जरिए चीनी निर्यात करने के खिलाफ है। शिंदे ने कहा है कि इससे फैक्ट्रियां सीमित हो जाएंगी। इस संबंध में एकनाथ शिंदे ने प्रधानमंत्री मोदी से हस्तक्षेप करने और वाणिज्य, उपभोक्ता संरक्षण और खाद्य एवं लोक निर्माण मंत्रालय को उचित निर्णय लेने का अनुरोध किया है।


साल 2021-22 में चीनी निर्यात के बारे में केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। केंद्र सरकार ने चीनी निर्यात के मामले में एक खुली नीति अपनाई है।जिसके बाद भारत दुनिया में चीनी का एक प्रमुख निर्यातक बन गया है। मुख्यमंत्री शिंदे ने अपने पत्र में कहा है कि इससे चीनी फैक्ट्री को वित्तीय स्थिरता मिली और विदेशी मुद्रा भी बढ़ी। 


बता दें कि, इसी साल से चीनी निर्यात के लिए कोटा प्रणाली लागू कर दी जाएगी। हालांकि, शिंदे का कहना है कि, इससे चीनी फैक्ट्रियों का नुकसान हुआ है। मार्च तक, देश में पतझड़ का मौसम समाप्त हो जाता है। ब्राजील में सीजन 1 अप्रैल से शुरू होता है और अन्य चीनी निर्यातक देशों को प्रतिस्पर्धा पैदा करने से फायदा होता है। सरकार को चीनी निर्यात के लिए कोई वित्तीय सहायता प्रदान करने की आवश्यकता नहीं है। 


कोटा प्रणाली जिन कारखानों को चीनी निर्यात में दिलचस्पी नहीं वह भी वास्तव में निर्यात किए बिना पैसा कमाने के लिए अपना कोटा दूसरों को हस्तांतरित करते हैं। एक कोटा प्रणाली अनावश्यक प्रशासनिक बाधाएं पैदा करेगी और पारदर्शिता की कमी होगी। 


वर्तमान में कच्चे तेल की कीमतों में काफी बढ़ोतरी हुई है। इस वजह से ब्राजील के लिए चीनी के बजाय इथेनॉल उत्पादन पर ध्यान केंद्रित करना ज्यादा फायदेमंद है। हालांकि, भविष्य में कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट की संभावना है। इस वजह से ब्राजील भी इथेनॉल के बजाय चीनी उत्पादन पर ध्यान केंद्रित करने की संभावना है। इस वजह से भारत का भी नुकसान हो सकता है। 


राज्य सहकारी चीनी कारखाना संघ के साथ-साथ राष्ट्रीय सहकारी चीनी कारखाना संघ के साथ-साथ महाराष्ट्र में निजी क्षेत्र के कारखाने सभी खुली चीनी निर्यात नीति को लागू करने की मांग करते हैं। इसलिए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने प्रधानमंत्री को भेजे पत्र में यह भी कहा है कि वह संबंधित मंत्रालय को इस मामले में उचित फैसला लेने का निर्देश दें।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.