Saturday, 29 October 2022

Maharashtra: जालना राम मंदिर की मूर्ति चोरी मामले में SIT टीम को मिली सफलता, दो आरोपी गिरफ्तार, कई एतेहासिक मूर्तियां बरामद


महाराष्ट्र में जालना जिले के जांब समर्थ के राम मंदिर में अज्ञात चोरों ने मंदिर से कई मूर्तियां चोरी की थी. इस कारण गांव वालों में बेहद ही गुस्सा था. मूर्ति चोरी मामले की कड़ी जांच करने के बाद एसआईटी टीम को बड़ी सफलता हाथ लगी है. पुलिस ने चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है और महत्वपूर्ण मानी जाने वाली राम पंचायत की पांच मूर्तियों को उनके कब्जे से जब्त कर लिया गया है. पुलिस ने दो आरोपियों को हिरासत में लिया है जो मूल रूप से कर्नाटक के रहने वाले हैं लेकिन वर्तमान में रामनगर, उस्मानाबाद में रह रहे हैं.


जांब समर्थ स्थित राम मंदिर में अज्ञात चोरों ने 22 अगस्त की तड़के मंदिर से कई एतेहासिक भगवान की मूर्ति चुरा ली थी. मंदिर से राम, लक्ष्मण सीता, भरत अमिशुग्ना, एक श्रीराम पंचायत और दो मारोटी की अलग-अलग मूर्तियां चोरी हो गईं थी. शुरुआत में यह जांच जिले की स्थानीय पुलिस घनसावंगी पुलिस के पास थी. फिर इस मामले में एनसीपी के नेता पूर्व स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने सत्र के दौरान सदन में मूर्ति चोरी का मुद्दा उठाया था जिस पर उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मामले की गहन जांच का वादा किया. इसके बाद ही चोरी के दूसरे दिन जांच स्थानीय क्राइम ब्रांच को सौंपी दी गई थी. 


ग्रामीणों ने किया विरोध प्रर्दशन


जालना राम मंदिर में मूर्ति चोरी से ग्रामीणों की आस्था को ठेस पहुंची थी जिसके बाद ग्रामीणो और राम भक्तों ने एक दिवसीय भोजन बलिदान विरोध भी किया था. यही नही ग्रामीणों ने चोरी के विरोध में जिले के दैथना गांव से पैदल ही धरना भी दिया था. मामलें के कड़े विरोध के चलते शिवसेना और कांग्रेस ने भी इस मुद्दे को उठाया था. शिवसेना के पूर्व विधायक शिवाजीराव चोथे और ग्रामीणों ने घनसावंगी थाने में मार्च निकाला लेकिन इस बार पुलिस के आश्वासन देने पर मार्च को रद्द करा दिया गया था. इस दौरान मंदिर के न्यासियों ने 15 दिन पहले राज्य में समर्थ मठ के महंत के साथ बैठक बुलायी. 


मूर्ति चोरी मामलें में गठित की एसआईटी टीम


मूर्ति चोरी मामलें की गहनता को समझते हुए 21 अक्टूबर को मामले में जालना औरंगाबाद, उस्मानाबाद, बीड पुलिस अधिकारियों को शामिल करते हुए एक एसआईटी का गठन किया गया था. घटना के 67वें दिन आज इस मामलें में एसआईटी को सफतला मिली. वैराग थाना क्षेत्र से दो मूर्ति चोरों को उस्मानाबाद और सोलापुर ग्रामीण को गिरफ्तार किया गया है. इस मामले में अब तक 500 से ज्यादा संदिग्धों से पूछताछ हो चुकी है पुलिस ने इन आरोपियों को मोबाइल टावर लोकेशन के आधार पर हिरासत में लिया है और चोरी के दौरान दो मोबाइल नंबर पुलिस को संदिग्ध लगे थे. हिरासत में आरोपी के पास से मारुति की एक मूर्ति भी बरामद हुई है.


मुख्य साजिशकर्ता की तलाश जारी


पुलिस को आरोपी के पास से ऐतिहासिक मूर्ति जब्त की है. गिरफ्तार किए गए दो आरोपियों में एक आरोपी चोरी ने चोरी की थी तो दूसरा आरोपी चोरी के सामान को खरीदने और बेचने में शामिल था. हालांकि अभी इस पूरे मामले का मुख्य आरोपी हाथ नहीं लगा है. पुलिस मुख्य आरोपी की तलाश में जुटी हुई है. पुलिस को आशंका है कि फरार आरोपी के पास अन्य ऐतिहासिक मूर्तियां भी हो सकती हैं. पकड़े गए आरोपी की सूचना के आधार पर पुलिस तीसरे और मुख्य आरोपी की तलाश कर रही है, जिसके बारे में माना जा रहा है कि उसके पास मुख्य मूर्ति है.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.