Thursday, 20 October 2022

त्योहार में जहर का तड़का! घास, पत्थर, गुड़ के शीरे से बनाया जा रहा नकली जीरा


दिवाली से पहले दिल्ली के कंझावला से भारी मात्रा में नकली जीरा बरामद हुआ है. वहीं, इस मामले में एक व्यक्ति की गिरफ्तारी भी हुई है. इसका नाम सुरेश गुप्ता बताया जा रहा है. पुलिस के एक अधिकारी के मुताबिक, 4198 किलो से ज्यादा नकली जीरे की जब्ती हुई है. मौके पर खाद्य सुरक्षा अधिकारी भी पहुंचे है. अधिकारियों ने नकली जीरे के कुछ सैंपल जांच के लिए भेजे हैं. जानकारी के मुताबिक, नकली जीरा बनाने में घास (भूसी), गुड़ का सिरके (शीरा) और पत्थर के पाउडर का उपयोग किया जा रहा था.


क्राइम ब्रांच की टीम को एक ट्रक में नकली जीरे के 348 बैग बरामद हुए. वहीं, पास के गोदाम में जीरे के 55 बैग की जब्ती हुई, जिसका वजन 70 किलोग्राम बताया जा रहा है.वहीं, पुलिस ने घास (भूसी) के 35 बैग बरामद किए हैं, जिसका वजन 25 किलो बताया जा रहा है. वहीं, 40 लीटर गुड़ का सिरका और 50 किलो पत्थर का पाउडर की बरामदगी हुई है. अधिकारियों ने आईपीसी की धारा 420/272/273 और खाद्य सुरक्षा अधिनियम की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है.


नकली जीरे को बनाने के लिए गुड़ के शीरे का इस्तेमाल

यह छापेमारी खाद्य सुरक्षा अधिकारी और दिल्ली पुलिस के क्राइम ब्रांच के अधिकारियों ने मिलकर की. इस छापेमारी में खाद्य सुरक्षा अधिकारी प्रवीण कुमार , सतीश कुमार गुप्ता और एएसआई पवन कुमार सहित अन्य पुलिसकर्मी शामिल थे.बता दें कि नकली जीरे को बनाने के लिए धंधेबाज गुड़ के शीरे का इस्तेमाल करते हैं. साथ ही जिस घास से फूल झाड़ू बनती है, उस घास का भी उपयोग होता है. पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, धंधेबाज घास को पहले पानी में उबालते हैं. उसके बाद उसे शीरे में पकाते हैं. फिर घास को सुखा लेते हैं. घास का रंग जीरे जैसा होते ही पत्थर के बने पाउडर में डाल देते हैं. इसके बाद इसे छलनी से छान लेते हैं. कई बार इसमें स्लरी पाउडर भी मिलाते हैं ताकि इसका रंग एकदम जीरे की तरह दिखे.


ये हो सकती हैं परेशानियां

नकली जीरा खाने से लोगों को स्वास्थ्य संबंधी कई परेशाियां हो सकती हैं. चिकित्सकों के मुताबिक,पेट में दर्द और स्टोन जैसी दिक्कतें भी हो सकती हैं. इसके सेवन से त्वचा संबंधी रोग होने का भी खतरा बना रहता है. नकली जीरा इम्यूनिटी को कमजोर करता है. वैसे असली जीरे में कई तरीके के विटामिन्स पाए जाते हैं. इनमें फाइबर, आयरन, कॉपर, पोटैशियम, मैगनीज, कैल्शियम, जिंक, मैगनीशियम सहित अन्य तत्व शामिल हैं.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.