Friday, 28 October 2022

अंतिम संस्कार के पहले अर्थी पर ज़िंदा हो गया 'मरने वाला', फिर बोला....

महाराष्ट्र (Maharashtra) के अकोला के विवरा गांव में लोगों को एक युवक के निधन की सूचना मिली. लोग युवक के घर पर जुटने लगे. अंतिम संस्कार के लिए युवक के शव को श्मशान ले जाया जा रहा था. लेकिन जिसे श्मशान ले जाया जा रहा था, वो अंतिम संस्कार से पहले उठकर बैठ गया. जानकारी के मुताबिक परिवार वाले उसकी अर्थी एक तांत्रिक के पास ले गए थे, जहां उसमें कथित तौर पर जान आ गई. 


मुर्दा आदमी के जिंदा हो जाने की ये खबर या फिर अफवाह कह लीजिए, आग की तरह फैली. तांत्रिक और परिवार वालों ने इसे चमत्कार बताया, तो वहीं गांव के कई लोगों ने इस पूरी घटना को झूठ, अंधविश्वास और भ्रामक बताया. पुलिस ने भी मामले का संज्ञान लिया और पूछताछ के बाद उस तांत्रिक के खिलाफ महाराष्ट्र जादू टोना एक्ट के तहत केस दर्ज किया है.


जिसका अंतिम संस्कार होने जा रहा था वो उठ गया!

आजतक के धनंजय साबले की रिपोर्ट के मुताबिक 25 साल का प्रशांत मेसरे कुछ दिनों से बीमार चल रहा था. उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया था, लेकिन अस्पताल से लौटने के बाद प्रशांत के घर वालों की ओर से 26 अक्टूबर को गांव में यह संदेश पहुंचाया गया कि प्रशांत की मौत हो गई है और अंतिम संस्कार होने जा रहा है. 


इसकी सूचना मिलते ही लोग प्रशांत के घर पहुंचने लगे. अंतिम संस्कार की तैयारी पूरी चुकी हो चुकी थी. शव को श्मशान घाट ले जाया जा रहा था. लेकिन अंतिम संस्कार से पहले शव को एक तांत्रिक दीपक बोर्ले के पास लाया गया. तांत्रिक के मुताबिक प्रशांत को भगवान के आगे रखने के बाद उसमें जान आ गई और वो उठकर बैठ गया. 


पुलिस ने तांत्रिक को अरेस्ट कर लिया है

तांत्रिक दीपक बोर्ले ने कहा कि प्रशांत का उठना देवी का चमत्कार है. वहीं गांव के कई लोगों ने इसे अंधविश्वास बताते हुए प्रशासन से एक्शन लेने की बात कही. जब इस मामले की सूचना पुलिस को मिली, तब प्रशांत, उसके माता-पिता और तांत्रिक को थाने बुला कर पूछताछ की गई. 


इस बीच अकोला के बाहर तांत्रिक द्वारा युवक को जिंदा करने की अफवाह फैलने लगी. इसके बाद पुलिस ने तांत्रिक दीपक बोर्ले के खिलाफ महाराष्ट्र जादू टोना एक्ट के तहत मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया. पुलिस का कहना है कि इस मामले की जांच चल रही है. इसमें तथ्यों के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.