Thursday, 13 October 2022

शिंदे-फडणवीस सरकार गिर जाएगी? NCP नेता एकनाथ खडसे ने बताई इसकी वजह


महाराष्ट्र में शिंदे-फडणवीस सरकार ज्यादा दिनों तक नहीं टिकेगी. जल्दी ही एकनाथ शिंदे और देवेंद्र फडणवीस की यह सरकार गिर जाएगी. ऐसा होने के पीछे कुछ ठोस वजहें हैं. यह बात पूर्व में बीजेपी अध्यक्ष रह चुके और अब शरद पवार की पार्टी एनसीपी से विधानपरिषद के सदस्य एकनाथ खडसे ने कही है. खडसे ने कहा कि सरकार जब बहुमत में होती है तो जो फैसले लेती है, वो वैध माने जाते हैं. लेकिन कुछ नियमों का पालन भी करना होता है. अगर ऐसा नहीं होता है तो समस्याएं खड़ी होनी शुरू होती हैं.


एकनाथ खडसे ने कहा कि सरकार कब गिरेगी, फिलहाल यह कहना मुश्किल है. शिंदे समर्थक विधायकों को अयोग्य ठहराए जाने का मामला सुप्रीम कोर्ट में शुरू है. इस फैसले पर बहुत कुछ निर्भर करता है. अगले मंत्रिमंडल विस्तार के वक्त विधायकों में असंतोष बढ़ा तो सरकार तभी संकट में आ जाएगी. सबको उम्मीदें हैं, लेकिन सबकी उम्मीदें पूरी हों, यह बहुत मुश्किल है. इसलिए सरकार गिरने के एक-दो नहीं बल्कि कई कारण हैं.


जो पूर्वजों ने कमाई, बेटों ने गंवाई

एकनाथ खडसे ने यह साफ किया कि आगामी अंधेरी विधानसभा उप चुनाव में कांग्रेस और एनसीपी पूरी ताकत से उद्धव ठाकरे के साथ खड़ी रहेगी . लेकिन यह भी कहा कि जो स्वर्गीय बालासाहेब ने अपनी उम्र धनुषबाण के लिए लगा दी, इसी चुनाव चिन्ह से कई चुनाव लड़े और जीते, सत्ता पाई, वो दो लोगों की लड़ाई में गंवाई गई. ‘धनुषबाण’ भी गया और ‘शिवसेना’ का नाम भी गया. अब शिवसेना उद्धव बालासाहेब ठाकरे और बालासाहेब की शिवसेना नाम से दो पार्टियां अस्तित्व में आई हैं. आने वाले वक्त में किस गुट को कामयाबी मिलेगी, किसको नहीं, यह एक अलग मामला है. लेकिन जो सबसे अहम बात वो यह है कि जो पूर्वजों ने पूंजी कमाई, बेटों ने गंवा दी.


घर के भेदी ने लंका ढाया, ज़ख्म यहीं पर गहराया

एकनाथ खडसे ने कहा कि उद्धव ठाकरे शिवसेना पार्टी प्रमुख थे. किसी पार्टी का प्रमुख जरूरी नहीं कि 100 फीसदी परफेक्ट हो. कभी ना कभी उससे गलतियां होती हैं. उद्धव ठाकरे से भी गलतियां हुई होंगी. लेकिन वे गलतियां इतनी बड़ी नहीं कि इससे कोई गुट पार्टी छोड़ने के लिए आगे बढ़ जाए. गलतियां दोनों ही तरफ से हुई हैं.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.