Wednesday, 12 October 2022

मुंबई: लिफ्ट के दरवाजे में फंस गया था बुजुर्ग का सिर, 5 दिन बाद अस्पताल में हुई मौत

मुंबई: मुंबई में लिफ्ट से जुड़ी एक और दुर्घटना में बोरीवली के एक बुजुर्ग नागरिक की मौत हो गई. ये शख्स अपनी हाउसिंग सोसाइटी के लिफ्ट के दरवाजे में फंस गया था और गंभीर रूप से घायल हो गया. हादसे के वक्त लिफ्ट में 3 और लोग मौजूद थे. रतन पाटिल अपने परिवार के साथ बोरीवली (पूर्व) में तुलजाई-सी सोसाइटी में रहते थे. 2 अक्टूबर की शाम को वह दूध लेकर घर आए और फिर अपने दो पोतों की तलाश में निकल पड़े. इसके लिए वह तीसरी मंजिल पर लिफ्ट में गए. सोसायटी के लोगों ने बताया कि लिफ्ट दूसरी मंजिल पर रुकी और फिर पहली मंजिल पर.


एक खबर के मुताबिक पहली मंजिल पर दरवाजा खुलने के बाद पाटिल ने यह देखने के लिए अपना सिर बाहर निकाला कि क्या उनके पोते वहां खेल रहे हैं. जब वह पीछे हट रहे थे, तभी लिफ्ट के दरवाजे बंद होने लगे. उनका शरीर अंदर दरवाजे में फंसा हुआ था और सिर बाहर फंस गया. लिफ्ट उनको घसीटते हुए भूतल की ओर बढ़ गई. सोसाइटी में किसी से मिलने जा रहे और लिफ्ट में सवार तीन अन्य लोग दुर्घटना के वक्त मौजूद थे. भूतल पर चौकीदार ने लिफ्ट का दरवाजा खोलने की कोशिश करने के लिए चाबी का इस्तेमाल किया, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. इसके बाद फायर बिग्रेड को बुलाया गया. दमकलकर्मियों ने गंभीर रूप से घायल पाटिल को निकालने में कामयाबी हासिल की.


पाटिल को कांदिवली (पश्चिम) के बाबासाहेब अंबेडकर अस्पताल ले जाया गया. अंबेडकर अस्पताल के एक वरिष्ठ डॉक्टर ने कहा कि पाटिल को रात 8 बजे के आसपास गंभीर हालत में भर्ती कराया गया था. उनकी नब्ज रिकॉर्ड करने योग्य नहीं थी. सिर में गंभीर चोटें थीं और श्वासनली में चोट लगने की आशंका थी. हम उनकी हालत के कारण तुरंत सीटी-स्कैन या कोई अन्य जांच नहीं कर सके. उन्हें सर्जिकल आईसीयू में भर्ती होने के ठीक बाद से वेंटिलेटर पर रखा गया था.


5 अक्टूबर को पाटिल को नायर अस्पताल ले जाया गया. 7 अक्टूबर को उनकी मौत हो गई. तबसे सोसायटी ने लिफ्ट बंद कर रखी है. सोसाइटी के अध्यक्ष जतिन दमानिया ने कहा कि लिफ्ट की पिछली सर्विसिंग 24 सितंबर को की गई थी. तुलजाई-सी का निर्माण 2013 में किया गया था. अब लिफ्ट को बदलने का फैसला किया गया है. इसके लिए लिफ्ट निर्माताओं से कोटेशन लिए जा रहे हैं.


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.