Tuesday, 18 October 2022

Maharashtra : शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में दावा- अंधेरी ईस्ट उपचुनाव में हार देख BJP ने वापस लिया उम्मीदवार


Maharashtra : उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) नीत शिवसेना गुट ने मंगलवार को दावा किया कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अंधेरी पूर्व विधानसभा सीट से उम्मीदवार मुरजी पटेल ने यह देखते हुए नामांकन वापस लिया है कि उपचुनाव में उनकी हार तय है. ठाकरे गुट ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में दावा किया है कि ‘सुरक्षित मार्ग’ के बावजूद बीजेपी को ‘शर्मिंदगी’ उठानी पड़ी.



ठाकरे गुट ने बीजेपी को 'कमलाबाई' बताया

मराठी दैनिक के पहले पन्ने पर उपचुनाव पर लेख प्रकाशित है जिसका शीर्षक है, “अंधेरी से कमलाबाई भागी!” ठाकरे गुट ने बीजेपी को ‘कमलाबाई’ बताया है, क्योंकि पार्टी का चुनाव चिन्ह कमल है. अंधेरी पूर्व सीट पर उपचुनाव तीन नवंबर को होगा. यहां से शिवसेना के विधायक रमेश लटके का इस साल की शुरुआत में निधन हो गया था. ठाकरे के नेतृत्व वाले शिवसेना गुट ने रमेश लटके की पत्नी ऋतुजा लटके को मैदान में उतारा है, जबकि बीजेपी ने पटेल को उम्मीदवार बनाया था.


राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख शरद पवार और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के नेता राज ठाकरे ने निर्विरोध चुनाव की वकालत की थी जिसके बाद बीजेपी ने सोमवार को उपचुनाव से अपना उम्मीदवार हटा लिया. इसके बाद मुकाबले में सात उम्मीदवार रह गए हैं, लेकिन ऋतुजा लटके की जीत पक्की मानी जा रही है. ‘सामना’ के संपादकीय में कहा गया है, “उम्मीदवार का नाम वापस लेना उतना आसान नहीं है, जितना दिखता है. पराजय हो गई तो शिंदे-फडणवीस सरकार को बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी, यह उनके ध्यान में आया होगा. बीजेपी को यह भी एहसास हो गया होगा कि शिवसेना (ठाकरे गुट) की जीत तय है.”


बीजेपी ने उम्मीदवार को चुनावी मैदान से हटाया 

इसमें यह भी दावा किया गया है कि बीजेपी उम्मीदवार के नामांकन पत्र में कई खामियां सामने आने के बाद उनका नामांकन पत्र रद्द होने का खतरा था. लेख के मुताबिक, “ (बीजेपी-शिंदे गुट) की गाड़ी की इस खतरनाक मोड़ पर दुर्घटना होने वाली ही थी. इस खतरे से बाहर निकल सकें इसलिए अचानक गाड़ी को ब्रेक लगाकर बीजेपी ने ‘यू टर्न’ ले लिया.” लेख में कहा गया है कि इसलिए बीजेपी ने अपने उम्मीदवार को चुनावी मैदान से हटा लिया. लेख में ऋतुजा लटके के बृहन्मुंबई महानगरपालिका से इस्तीफे को स्वीकार करने में रूकावटें पैदा करने को लेकर भी राज्य सरकार की आलोचना की गई है.


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.