Monday, 17 October 2022

महाराष्ट्र: नागपुर में पंचायत समिति चुनाव में कांग्रेस की जीत से भाजपा को झटका

 


नागपुर: महाराष्ट्र के नागपुर जिले में पंचायत समिति के अध्यक्षों और उपाध्यक्षों के पदों पर हुए चुनाव के नतीजों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को करारा झटका लगा है। कांग्रेस पार्टी ने पंचायत समिति की अधिकांश सीटों पर जीत हासिल की है। आधिकारिक जानकारी के अनुसार, भाजपा पंचायत समिति के अध्यक्ष का एक भी पद नहीं जीत सकी और इन चुनावों में उपाध्यक्ष की केवल तीन सीटें हासिल करने में सफल रही। इसके परिणाम शनिवार को घोषित किए गए थे।


नागपुर जिला भाजपा की महाराष्ट्र इकाई के मौजूदा प्रमुख चंद्रशेखर बावनकुले, राज्य के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का गृह क्षेत्र है। नागपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का मुख्यालय भी है, जो भाजपा का वैचारिक स्रोत है। कांग्रेस ने जिले में अध्यक्ष के 13 में से नौ और उपाध्यक्ष के 13 में से आठ पदों पर जीत हासिल की है।


जिला अधिकारियों ने कहा कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने अध्यक्ष के तीन पद हासिल किए, जबकि शिवसेना अध्यक्ष का एक पद जीतने में सफल रही। कांग्रेस ने सौनेर, कलमेश्वर, परसिवनी, मौदा, कैम्पटी, उमरेड, भिवापुर, कुही और नागपुर ग्रामीण में अध्यक्ष का पद जीता है। उन्होंने बताया कि काटोल, नरखेड़ और हिंगना में राकांपा ने जीत हासिल की जबकि रामटेक अध्यक्ष का पद शिवसेना ने जीता।


सूत्रों ने बताया कि रामटेक सीट पर मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाले धड़े ने ‘बालासाहेबंची शिवसेना’ नाम से जीत हासिल की। राज्य सरकार में पूर्व मंत्री और कांग्रेस ग्रामीण इकाई के प्रमुख राजेंद्र मुलक ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘पंचायत समिति के नतीजों ने भाजपा कैडर को निराश कर दिया है, क्योंकि पार्टी को आरएसएस और वरिष्ठ नेताओं नितिन गडकरी, देवेंद्र फडणवीस और चंद्रशेखर बावनकुले के घरेलू मैदान पर हार का सामना करना पड़ा है।”


कांग्रेस नेता ने कहा,‘‘जीत और हार होती रहती है, लेकिन जिस तरह से वे हारे हैं, उससे पता चलता है कि जिले में भाजपा कैडर की कोई पकड़ नहीं है।” रविवार को सरपंच और ग्राम पंचायत सदस्यों के पदों के लिए चुनाव हुए और सोमवार को इसके नतीजे घोषित किए जाएंगे। 


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.