Monday, 10 October 2022

MNS चीफ राज ठाकरे ने अपने आवास पर अयोध्या के संतो से की मुलाकात; ये नेता भी रहे मौजूद

Maharashtra : महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) सुप्रीमो राज ठाकरे ने सोमवार को मुंबई के दादर स्थित अपने आवास 'शिवतीर्थ' पर अयोध्या के संतों से मुलाकात की। सूत्रों के मुताबिक, बैठक के दौरान मनसे के अन्य नेता भी मौजूद रहे।


इससे पहले मनसे सुप्रीमो राज ठाकरे ने अपनी अयोध्या की यात्रा रद्द कर दी थी। उनका मानना था कि ये उनके विरोधियों द्वारा एक जाल था, जो उनके खिलाफ बुना गया था। ऐसा तब हुआ जब बीजेपी सांसद बृजभूषण शरण सिंह द्वारा ठाकरे को चेतावनी दी कि उन्हें अयोध्या में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी, जब तक कि वह उत्तर भारतीयों को अपमानित करने के लिए माफी नहीं मांगते।


इस पूरे मामले से पहले राज ठाकरे ने अयोध्या जाने की इच्छा जाहिर कर कहा था, "मैं राम जन्मभूमि और उस जगह का दौरा करना चाहता था जहां कारसेवकों को मारा गया था। कुछ लोग राजनीति में भावनाओं को नहीं समझते हैं। अगर मैंने वहां जाने का फैसला किया होता, तो महाराष्ट्र के हजारों मनसे कार्यकर्ता और हिंदू मेरे साथ पहुंचते। अगर मुझे वहां कुछ हो जाता, तो आप पर जवाबी कार्रवाई की जाती और आपके खिलाफ मामले दर्ज होते और आपको जेल में डाल दिया जाता।"


राज ठाकरे के प्रस्तावित अयोध्या दौरे का बीजेपी ने किया विरोध

राज ठाकरे की प्रस्तावित अयोध्या यात्रा का उत्तर प्रदेश के बीजेपी सांसद बृजभूषण सिंह ने कड़ा विरोध किया था। उत्तर भारतीयों के खिलाफ "अपमानजनक" टिप्पणी के लिए सिंह ने चेतावनी दी कि ठाकरे को तब तक अयोध्या में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी जब तक कि वह सार्वजनिक रूप से माफी नहीं मांग लेते।


गौरतलब है कि पार्टी के गठन के शुरुआती सालों के दौरान मनसे प्रमुख ने उत्तर प्रदेश और बिहार सहित उत्तर भारतीय राज्यों के प्रवासियों के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। मनसे ने 'मराठी मानुस' का समर्थन किया और 2008 में एक आंदोलन शुरू किया, जिसके दौरान कल्याण में रेलवे परीक्षा देने के लिए पहुंचे उत्तर भारत के उम्मीदवारों के साथ मारपीट की गई।


मनसे अपनी गलती सुधारे: बृजभूषण सिंह

बृजभूषण सिंह ने कहा कि मनसे चीफ को अपनी गलती सुधारनी चाहिए और उन्हें अतीत में की गई अपनी गलतियों के लिए माफी मांगनी चाहिए। सिंह ने आगे कहा, "हम 2008 से देख रहे हैं कि उन्होंने 'मराठी मानुष' का मुद्दा उठाया, जबकि मुंबई के विकास में 80 प्रतिशत योगदान उन लोगों से आया जो शहर से नहीं हैं। ऐसे में ठाकरे को अपनी गलती सुधारनी चाहिए। राज ठाकरे को उत्तर भारतीयों से माफी मांगनी चाहिए, नहीं तो उन्हें अयोध्या में प्रवेश करने की अनुमति नहीं मिलेगी। बीजेपी सांसद ने आगे कहा, मैंने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ से अनुरोध किया है कि जब तक वह माफी नहीं मांगते, तब तक उनसे न मिलें।"

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.