Wednesday, 12 October 2022

महाराष्ट्र की सत्ता में शामिल शिंदे गुट और बीजेपी, फिर सीएम के कार्यक्रम में BJP का धरना प्रदर्शन क्यों ?

मीरा-भाईंदर: मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) ने मंगलवार को मीरा-भाईंदर के पहले नाट्यगृह का उद्घाटन किया। नाट्यगृह का नामकरण भारतरत्न लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) के नाम पर हुआ है, लेकिन कार्यक्रम में उस समय हंगामा मच गया, जब नाट्यगृह के बाहर पूर्व विधायक नरेंद्र मेहता, निवर्तमान महापौर ज्योत्स्ना हसनाले सहित बीजेपी (BJP) के दर्जनों पूर्व नगरसेवक धरने पर बैठ गए। उनका आरोप था कि उन्हें कार्यक्रम में आमंत्रित करने के बावजूद सभागृह में जाने नहीं दिया गया। मुख्यमंत्री दोपहर 2.30 बजे नाट्यगृह पहुंचे थे। उनके आने के बाद सभागृह में काफी भीड़ जṆमा हो गई। कुछ देर बाद मेहता, हसनाले और दर्जनभर पूर्व नगरसेवक नाट्यगृह पहुंचे। सभागृह में जगह न होने के कारण के पुलिस ने मेहता और हसनाले के अलावा बाकी सबको जाने से रोक दिया। पुलिस के इस रवैये पर मेहता सहित सभी पूर्व नगरसेवक नाट्यगृह के बाहर धरने पर बैठ गए और अंत तक कार्यक्रम में नहीं गए।


स्टैच्यू का आधिकारिक अनावरण

मुख्यमंत्री ने नाट्यगृह के अलावा बहुप्रतीक्षित महाराणा प्रताप के स्टैच्यू का आधिकारिक अनावरण किया गया। इससे पहले 2019 के विधानसभा चुनावों के समय पूर्व विधायक नरेंद्र मेहता ने बिना प्रशासनिक नियमों के इसका अनावरण कर दिया था। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने चिमाजी अप्पा के स्टैच्यू का भी अनावरण किया और भविष्य में बनने वाले 3.25 लाख वर्ग फुट के अस्पताल और 4 लाख वर्ग फुट के प्रशासकीय इमारत का भी भूमिपूजन किया।


फडणवीस की अनुपस्थिति चर्चा में

कार्यक्रम में उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भी आमंत्रित थे, लेकिन वे कार्यक्रम में अनुपस्थित रहे। इसकी शहर में चर्चा रही। कार्यक्रम ने फडणवीस का अनुपस्थित रहना और पूर्व विधायक का कार्यक्रम स्थल के बाहर धरना आपस में जोड़कर देखा जा रहा है। कयास लगाया जा रहा है कि उपमुख्यमंत्री की अनुपस्थिति और धरना एक ही रणनीति का हिस्सा है। कार्यक्रम में विधायक प्रताप सरनाईक, विधायक गीता जैन, पूर्व सांसद संजीव नाईक व अन्य गणमान्य मौजूद थे।


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.