Saturday, 3 September 2022

एकनाथ शिंदे की कुर्सी पर मंडराया ख़तरा ! साथ आए बागी MLA कर सकते हैं 'घर वापसी'

मुंबई: शिवसेना से बगावत कर महाराष्ट्र के CM की कुर्सी पर बैठे एकनाथ शिंदे के समक्ष एक नई मुसीबत खड़ी हो गई है। अभी सरकार बने लगभग तीन महीने ही गुजरे हैं, मगर उन्हें अपने साथ आए विधायकों की नाराजगी का सामना करना पड़ रहा है। इसी के कारण शिंदे अपने कैबिनेट का दूसरा विस्तार भी नहीं कर पा रहे हैं। दरअसल शिवसेना से अधिकतर बागी MLA, एकनाथ शिंदे सरकार में खुद को मंत्री पद पर देखना चाहते हैं और यही मुश्किल की वजह है।  


वहीं, इन दिनों महाराष्ट्र में असली शिवसेना और नकली शिवसेना का विवाद भी चरम पर है, जो सर्वोच्च न्यायालय और निर्वाचन आयोग के समक्ष लंबित है। ऐसे में चर्चा है कि कुछ ऐसे MLA भी हैं, जो मंत्री न बन पाने की स्थिति में उद्धव ठाकरे गुट के वापस जा सकते हैं। यदि, ऐसा होता है तो एकनाथ शिंदे के लिए बड़ी समस्या पैदा हो जाएगी। अगर कुछ MLA जाते भी हैं, तो फिर एकनाथ शिंदे गुट के सामने दलबदल कानून का खतरा उत्पन्न हो जाएगा।


बता दें कि, एकनाथ शिंदे ने जब शिवसेना से बगावत करके सरकार का गठन किया था, तो उन्हें 40 विधायकों का समर्थन मिला था। शिवसेना के कुल 54 MLA हैं। ऐसे में उन्हें कम से कम 37 विधायक विवाद का समाधान होने तक अपने साथ रहना आवश्यक है, ताकि दलबदल कानून से बच सकें। इसलिए अगर बागी विधायकों में से 4 भी अलग हुए, तो तादाद 36 ही रह जाएगी और दलबदल कानून का खतरा उत्पन्न हो जाएगा। यही एकनाथ शिंदे की मुश्किल है, जिसके चलते वह विधायकों को राजी करने की कोशिश कर रहे हैं। 

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.