Thursday, 22 September 2022

महाराष्ट्र में लंपी वायरस को लेकर शिंदे सरकार का फैसला- पशुओं के इलाज का उठाएगी पूरा खर्चा

 


Lumpy Skin Disease
: महाराष्ट्र में पिछले कई दिनों से लंपी वायरस (Lumpy Virus) की चपेट में आने से अब तक कई पशुओं की मौत हो गई. इसे लेकर अब महाराष्ट्र सरकार एक्शन लेते हुए बड़ा फैसला लिया है. महाराष्ट्र के पुशपालन मंत्री राधाकृष्ण विखे पाटील (Radhakrishna Vikhe Patil) ने बताया कि अब महाराष्ट्र सरकार लंपी वायरस से संक्रमित पशुओं के इलाज का पूरा खर्च उठाएगी और सभी जिलों को लंपी वायरस के इलाज के लिए आवश्यक दवाएं भी देगी. हालांकि इससे पहले ही महाराष्ट्र सरकार ने लंपी वायरस से निपटने के लिए राज्य स्तरीय टास्क फोर्स का भी गठन किया है और इस 12 सदस्यीय टास्क फोर्स का नेतृत्व पुणे के पशुपालन आयुक्त करेंगे.

महाराष्ट्र में पशुओं में फैल रहे लंपी वायरस को देखते हुए नांदेड़ (Nanded) जिला प्रशासन ने पशु बाजार पर रोक लगा दी है. पशुपालन विभाग ने जानकारी देते हुए बताया कि महाराष्ट्र में सोमवार तक 43 पशुओं की लंपी वायरस की चपेट में आने से मौत हो गई. इसके साथ ही पशुपालन विभाग ने सभी जिलों के अधिकारियों को राज्य में टीकाकरण को तेज करने के निर्देश दिए हैं. इतना ही नहीं खुद मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने भी इस मामले पर बैठक करते हुए पशुपालन विभाग के अधिकारियों को सतर्क रहने और लंपी वायरस के संक्रमण को रोकने के निर्देश दिए हैं. सीएम शिंदे ने सभी अधिकारियों को लंपी वायरस के केसों पर नजर रखने के लिए कहा है.

महाराष्ट्र के कई जिलों के पशु लंपी वायरस की चपेट में

बता दें कि लंपी वायरस राजस्थान और गुजरात में गायों में फैलना शुरू हुआ था जिसके बाद अब यह कई प्रदेशों में पशुओं में फैल गया है. महाराष्ट्र के कई जिलों में लंपी वायरस की चपेट में पशु हैं, जिनमें जलगांव, अहमदनगर, अकोला, धुले, पुणे, लातूर, औरंगाबाद, बीड, सतारा, बुलढाना, अमरावती, उस्मानाबाद, कोल्हापुर, सांगली, यवतमाल, परभणी, सोलापुर,  वाशिम, नासिक और जालना शामिल हैं.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.