Tuesday, 13 September 2022

Mumbai : एक बार फिर सामने आया रैगिंग का नया मामला, डेंटल कॉलेज के 4 छात्रों के खिलाफ शिकायत दर्ज

Mumbai: तमाम सख्ती और कानून के बावजूद कॉलेजों में रैगिंग का सिलसिला खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। आज भी बहुत से लोगों में छात्रों को रैगिंग जैसे खतरनाक कृत्य का सामना करना पड़ता है। अब नया मामला नवी मुंबई में देखने को मिला है। नवी मुंबई के कामोठे में एक डेंटल कॉलेज के चार छात्रों पर तीन जूनियर छात्रों की कथित तौर पर रैगिंग करने का मामला दर्ज किया गया है। छात्रों के खिलाफ कॉलेज की ओर से पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है।


कॉलेज प्रशासन की शिकायत के मुताबिक चारों आरोपी छात्रों ने कथित तौर पर 19 साल के एक जुनियर छात्र को शराब पिलाई और जोर देकर कहा कि, वह अपनी पैंट में यूरिन पास करे। घटना के बाद चारों सीनियर्स को कॉलेज ने सस्पेंड कर दिया है, लेकिन अभी तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है। 


अपने रूम पर बुलाकर छात्रों के साथ की रैगिंग

पुलिस के मुताबिक यह कथित घटना जुलाई में हुई थी, लेकिन कोल्हापुर के रहने वाले छात्र ने हाल ही में एक यात्रा के दौरान अपने माता-पिता को उत्पीड़न के बारे में बताया था। जिसके बाद कॉलेज में शिकायत दर्ज कराई गई। पुलिस ने बताया है कि डिग्री कोर्स के प्रथम वर्ष में नामांकित जूनियर बैच के तीन साथियों के साथ कामोठे में किराए के फ्लैट में रहता है। वहीं आरोपी तीन सीनियर छात्र जिनकी उम्र 21 से 22 वर्ष के बीच है और जो डिग्री कोर्स के तीसरे साल के छात्र हैं, पीड़ित छात्रों के परिसर के दूसरे फ्लैट में किराएदार हैं। घटना का खुलासा होने के बाद कॉलेज की एंटी रैगिंग कमेटी के एक प्रोफेसर द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के मुताबिक, चार सीनियर्स ने जूनियर और उसके तीन रूमेट को अपने घर बुलाया और जबरदस्ती शराब पीने को कहा।


पतलून में यूरिन पास करने को कहा

मामले पर कामोठे थाने की वरिष्ठ निरीक्षक स्मिता ने कहा है कि, जब कोल्हापुर के जूनियर ने वॉशरूम का उपयोग करने के लिए कहा तो आरोपी सीनियर ने उसे ऐसा करने से रोक दिया। इसके बजाय उन्होंने उसे और पानी पीने के लिए मजबूर किया और जोर देकर कहा कि वह यूरिन पास करने की अपनी इच्छा को कंट्रोल में रखें। इसके बाद सीनियर्स ने पीड़ित छात्र को जोर देकर कहा कि वह अपनी पतलून में यूरिन पास करें। जूनियर ने अपने माता-पिता को रैगिंग के बारे में बताया जिसके बाद उन्होंने ई-मेल के जरिए कॉलेज में शिकायत की। इसके बाद पुलिस में मामला दर्ज करवाया गया।


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.