Thursday, 22 September 2022

'हिम्मत है तो मुंबई जीत कर दिखाओ', अमित शाह को उद्धव ठाकरे का खुला चैलेंज

 


मुंबई
: शिवसेना (Shivsena) में बगावत के बाद पहली बार पार्टी फोरम पर सार्वजनिक रूप से शिवसैनिकों के सामने आए पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने बीजेपी नेता अमित शाह को खुला चैलेंज दिया कि मुंबई (Mumbai) जीत कर दिखाएं। उद्धव ने कहा, 'मैं चैलेंज देता हूं कि अगर हिम्मत है, तो एक महीने के भीतर मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) का चुनाव करा कर देख लो।' उद्ध‌व का चैलेंज यहीं खत्म नहीं हुआ। उन्होंने कहा, 'शिवसेना की ताकत देखनी है, तो बीएमसी के साथ विधानसभा का चुनाव भी करा लो।' उद्ध‌व ने शाह (Amit Shah) को यह चैलेंज बुधवार को गोरेगांव के नेस्को मैदान में आयोजित शिवसेना के गट प्रमुखों के सम्मेलन में दिया। गट प्रमुख शिवसेना की सबसे पहली इकाई है। दशहरा रैली से पहले शिवसैनिकों को 'रीचार्ज' करने के मकसद से उद्धव ने गट प्रमुखों का यह सम्मेलन बुलाया था। करीब 25 हजार लोगों की क्षमता वाला सभास्थल शिवसैनिकों से खचाखच भरा था।

इलेक्ट्रॉनिक्स और एक्सेसरीज पर बंपर छूट, महज 99 रुपये से शुरू |

उद्धव ने कहा, 'इस बार लड़ाई में मजा आएगा। जो मर्द होता है, वह इसी तरह की लड़ाई का इंतजार करता है।' उन्होंने कहा, 'इतिहास गवाह है आदिल शाह, निजाम शाह बहुत से शाह आए और खत्म हो गए। इस बार किसी शाह की कोई चाल कामयाब नहीं होगी।'

वक्त बताएगा कौन गद्दार और कौन खुद्दार: शिंदे

महाराष्ट्र के सीएम एकनाथ शिंदे बुधवार को अपने भरोसेमंद मंत्रियों और विधायकों के साथ दिल्ली पहुंचे। देर शाम वह मीडिया से मुखातिब हुए। उन्होंने पूर्व सीएम उद्धव ठाकरे पर तंज करते हुए कहा, 'वे हमें गद्दार कहते हैं। वक्त आने पर पता चलेगा कि कौन गद्दार है और कौन खुद्दार।' शिंदे ने उद्धव पर आरोप लगाया कि सत्ता के लालच में उन्होंने बालासाहेब के विचारों और हिंदुत्व को छोड़ दिया। उन्होंने ग्राम पंचायत के चुनाव नतीजों को अपने गुट जीत बताते हुए दावा किया कि जनता ने ठाकरे गुट को नकार दिया है।

शिवाजी पार्क के लिए HC पहुंची शिवसेना

शिवसेना के उद्धव ठाकरे गुट ने शिवाजी पार्क में दशहरा रैली के आयोजन की अनुमति के लिए बॉम्बे हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। यह याचिका शिवसेना के सचिव अनिल देसाई ने बुधवार को दायर की है। याचिका में कहा गया है कि बीएमसी ने रैली की अनुमति के लिए अगस्त में भेजे गए उसके आवेदनों पर अब तक निर्णय नहीं लिया है। इसलिए पार्टी हाई कोर्ट का रुख करने के लिए विवश है। याचिका पर गुरुवार को सुनवाई होगी। याचिका में कहा गया है कि पार्टी 1966 से शिवाजी पार्क में हर साल दशहरा रैली का आयोजन कर रही है।

शिवसैनिकों में भरा जोश

- शिवसेना की दशहरा रैली हर बार की तरह इस बार भी शिवाजी पार्क पर ही होगी।


- शिवसेना पहली बार नहीं टूटी है, लेकिन जो शिवसेना से टूट कर गए हैं उनका हश्र बुरा हुआ है।


- मंच पर संजय राउत की कुर्सी रखी है। संजय राउत सच्चे शिवसैनिक हैं। जो झुकने के बजाए लड़ रहे हैं।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.