Saturday, 10 September 2022

Mumbai : शराब के लिए पहले की लूटपाट की कोशिश, नाकाम होने पर फुटपाथ पर रहने वाले को उतार दिया मौत के घाट

Mumbai : मुंबई में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। यह एक खतरनाक अपराधी ने शराब के लिए पहले शख्स को लूटने की कोशिश की। उसमें नाकाम होने के बाद अपराधी ने उसकी हत्या कर दी। पुलिस ने आरोपी को एक बेघर व्यक्ति की हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। घटना महापे-शिल्फाटा फ्लाईओवर के नीचे की है। आरोपी की पहचान आकाश चव्हाण (26) के तौर पर हुआ है, जबकि मरने वाले का नाम व्यंकटेश शेट्टी है।


पुलिस ने बताया है कि चव्हाण ने घटना को उस समय अंजाम दिया जब पीड़ित व्यंकटेश शेट्टी 3 सितंबर की रात सो रहा था। चव्हाण ने शराब पीने के लिए शेट्टी से कैश लूटने की कोशिश की और जब शेट्टी ने उसका सामना किया, तो उसने उसके सिर को पेवरब्लॉक से मारकर गंभीर रूप से घायल कर दिया और बाद में भाग गया।


एक झोपड़ी में रहता था अपराधी

एमआईडीसी के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक राजेंद्र अवध ने कहा, व्यंकटेश शेट्टी का शव 4 सितंबर को सुबह करीब 11 बजे महापे-शिल्फाटा फ्लाईओवर के नीचे खून से लथपथ मिला था। जांच के लिए कई पुलिस टीमों का गठन किया गया था। मुख्य संदिग्ध एक हिस्ट्रीशीटर आकाश चव्हाण था, जो रबाले एमआईडीसी क्षेत्र के रेडेक्स कंपनी के पीछे एक झोपड़ी में रहता है, पता चलने के बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। चव्हाण ने कबूल किया कि उसने शेट्टी से नकदी लूटने का प्रयास किया था क्योंकि उसे शराब पीने के लिए पैसे की जरूरत थी। जैसे ही शेट्टी ने चव्हाण का सामना किया, उसने शेट्टी पर जानलेवा हमला किया और भाग गया।'


पहले से कई मामले दर्ज

इंस्पेक्टर अवध ने कहा, हमने पीड़िता के खून के धब्बे वाले चव्हाण के कपड़े बरामद कर लिए हैं, चव्हाण के खिलाफ पहले 2016 और 2019 के बीच तुर्भे एमआईडीसी पुलिस स्टेशन में चोरी की पांच प्राथमिकी दर्ज की गई थी। चव्हाण और उसके सहयोगी के खिलाफ रबाले एमआईडीसी पुलिस स्टेशन में 2020 में चोरी का मामला दर्ज किया गया था। 2019 में, चव्हाण पर दो बार धारा 142 के तहत मामला दर्ज किया गया था। उसके तड़ीपार किया हुआ था। नवंबर, 2020 में, चव्हाण को फिर से दो साल के लिए डीसीपी (जोन -1) द्वारा नवी मुंबई, ठाणे, रायगढ़ और मुंबई उपनगरों के पुलिस आयुक्तों में प्रवेश पर रोक लगा दी गई थी। लेकिन वह शहर के भीतर वापस आ गया था।


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.