Saturday, 3 September 2022

मुंबई लोकल में बड़ी साजिश, रेलवे ट्रैक पर रखा ड्रम, मोटरमैन की सतर्कता से टला हादसा


मुंबई लोकल ट्रेन में एक बड़ी दुर्घटना की साजिश टल गई है. छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस और भायखला रेलवे स्टेशन के बीच रेलवे ट्रैक पर किसी ने शरारत से एक पत्थरों से भरा ड्रम रख दिया था. लेकिन मोटरमैन अशोक कुमार शर्मा की सूझ-बूझ और सतर्कता की वजह से एक बड़ा हादसा होते-होते रह गया. मोटरमैन ने तुरंत इमरजेंसी ब्रेक लगाया और उतरकर बाकी यात्रियों की मदद से ड्रम को रेलवे ट्रैक से हटाया. इसके बाद यह ट्रेन कल्याण की तरफ रवाना हो गई. यह मुंबई लोकल ट्रेन सीएसएमटी से खोपोली की तरफ जाती हुई फास्ट लोकल थी.


रेलवे इंजीनियरों द्वारा इस तरह के ड्रम का इस्तेमाल अपने कामों के लिए किया जाता है. लेकिन यह ड्रम रेलवे ट्रैक पर कैसे पहुंचा इसकी जांच शुरू है. पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है. मुंबई लोकल ट्रेन के जिस रेलवे ट्रैक पर यह ड्रम मिला है वो मध्य रेलवे के अधिकार क्षेत्र में आता है. सीएसएमटी और सैंडहर्स्ट रोड से भायखला स्टेशन के बीच ट्रैक पर यह ड्रम रखा हुआ था. ड्रम में पत्थर और गिट्टियां भरी हुई थीं. मोटरमैन की सतर्कता की वजह से खोपोली जाने वाले यात्रियों की जानें बच गईं.


मोटरमैन की सतर्कता की वजह से टला बड़ा हादसा


रेलवे पुलिस ने किया मामला दर्ज


रेलवे पुलिस ने अनजान व्यक्ति के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है. पुलिस टीम के अलावा रेलवे अधिकारियों की ओर से इस घटना को लेकर जांच शुरू है.


क्या, कब और कैसे हुआ सबकुछ?

सीएसएमटी रेलवे स्टेशन से केपी-7 फास्ट लोकल ट्रेन खोपोली की ओर 1 सितंबर को दोपहर 3 बजकर 10 मिनट में निकली थी. इस यात्रा के दौरान मोटरमैन अशोक कुमार शर्मा को भायखला रेलवे स्टेशन पहुंचने से पहले ट्रैक पर एक लोहे का ड्रम पड़ा हुआ दिखाई दिया. मामले की गंभीरता को समझते हुए मोटरमैंन ने तुरंत इमरजेंसी ब्रेक लगा दिया. इसके बावजूद यह लोकल ट्रेन उस लोहे के ड्रम से जोरदार तरीके से टकराई और थोड़ी दूर तक आगे जाकर रुक पाई. इसके बाद मोटरमैन ने उतरकर बाकी यात्रियों की मदद से ट्रैक से लोहे के ड्रम को हटाया. तब जाकर ट्रेन कल्याण की ओर आगे बढ़ी. इस वजह से यह मुंबई लोकल ट्रेन कल्याण पांच मिनट देर से पहुंची.




Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.