Saturday, 17 September 2022

Mumbai : कार इंश्योरेंस में बड़ा फर्जीवाड़ा, एजेंट अनोखे तरीके से वाहन मालिकों को लगाते थे चूना

Mumbai : मुंबई क्राइम ब्रांच (सीबी) ने गुरुवार को दो बीमा एजेंटों को गिरफ्तार किया और कम से कम आठ अन्य लोगों की तलाश में है, जिन्होंने महाराष्ट्र सहित देश भर में वाहन मालिकों को गलत पॉलिसी बेचकर एक बीमा कंपनी से ₹1.53 करोड़ की धोखाधड़ी की. जोगेश्वरी निवासी 39 वर्षीय विकेश कुमार कृष्णकांत सिंह और 31 वर्षीय मीरा रोड निवासी अब्दुल रज्जाक अब्दुल रहमान शेख ने कथित तौर पर चार पहिया बीमा पॉलिसी मांगने वाले ग्राहकों को दोपहिया बीमा पॉलिसी प्रदान करके लाखों या रुपये कमाए.


आरोपी कथित तौर पर पॉलिसी को अपने ग्राहकों को फॉरवर्ड करने से पहले एडिट कर देते थे, ताकि यह सही पॉलिसी की तरह दिखे और अंतर राशि को अपनी जेब में रख लेते थे. पुलिस उपायुक्त बालसिंह राजपूत ने कहा कि जांच के दौरान, पुलिस ने पाया कि 10 लोगों के इस गिरोह ने मुंबई से 817 पॉलिसी और महाराष्ट्र के अन्य हिस्सों से 258 पॉलिसी और साथ ही अन्य राज्यों से 54 पॉलिसियां की थीं. कुल मिलाकर, टाटा एआईजी इंश्योरेंस के 1,129 पॉलिसीधारकों से ₹1.53 करोड़ की ठगी की गई.


ऑडिट से सामने आई ये बात


जुलाई 2021 में एक आंतरिक ऑडिट के दौरान बीमा कंपनी द्वारा धोखाधड़ी सामने आने के बाद पता चला कि 2020-21 में पॉलिसीबाजार के माध्यम से थर्ड-पार्टी वाहन बीमा पॉलिसी प्राप्त करने के लिए समान मोबाइल फोन नंबर, ईमेल आईडी और आईपी (इंटरनेट प्रोटोकॉल) पते का उपयोग किया गया था. अपराध शाखा के एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि, "कंपनी के अधिकारियों ने तब पाया कि बीमा पॉलिसी एजेंटों का समूह वाहन बीमा पॉलिसियों को सस्ती दरों पर बेचने के बहाने पॉलिसी खरीदारों और बीमा कंपनी को भी धोखा दे रहा था." बकौल हिन्दुस्तान टाइम्स, क्राइम ब्रांच की यूनिट 3 ने अप्रैल में जांच शुरू की थी और 10 एजेंटों के खिलाफ सितंबर के पहले सप्ताह में एनएम जोशी मार्ग थाने में मामला दर्ज किया गया था.


ऐसे करते थे फर्जीवाड़ा


एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि “गिरोह के सदस्य पॉलिसी खरीदारों को सस्ती दरों पर चार पहिया बीमा की पेशकश करते थे और अपना विवरण ऑनलाइन दाखिल करते समय चार पहिया या छह पहिया वाहनों के बजाय दोपहिया वाहनों को भरने के लिए इस्तेमाल करते थे. इसके बाद आरोपी सिस्टम से तैयार वास्तविक पॉलिसी दस्तावेज प्राप्त करने के लिए अपनी ई-मेल आईडी डाल देते थे और पॉलिसी खरीदार को एक जाली पॉलिसी दस्तावेज भेज देते थे. आरोपी चार पहिया वाहन का बीमा प्रीमियम मौजूदा बाजार मूल्य से थोड़ी कम दर पर वसूल करते थे और दोपहिया वाहन का प्रीमियम बीमा कंपनी के पास जमा करते थे और अंतर राशि को अपनी जेब में रख लेते थे.”

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.