Thursday, 8 September 2022

पूरे देश में पॉलिटिकल पार्टियों पर इनकम टैक्स की रेड, मुंबई की झोपड़पट्टियां भी रडार पर


Mumbai: महाराष्ट्र (Maharashtra) की राजधानी मुंबई (Mumbai) में आयकर विभाग (Income Tax Department) की छापेमारी शुरू हो गई है. ये छापेमारी करोड़ों रुपये की पॉलिटिकल फंडिंग (Political Funding) और हेराफेरी के मामले में हो रही है. इस छापेमारी की खास बात ये है कि इस बार इनकम टैक्स विभाग के निशाने पर मुंबई की झोपड़पट्टियां भी हैं. मुंबई के सायन इलाके में झोपड़पट्टी और बोरिवली सहित कई अन्य ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है.


इसके अलावा महाराष्ट्र के औरंगाबाद में भी आयकर विभाग की छापेमारी लगातार दूसरे दिन जारी है. मिड-डे मील डिलीवरी करने वाले व्यापारी सतीश व्यास नाम के एक व्यापारी के घर, ऑफिस और होटल में छापेमारी की जा रही है. महाराष्ट्र में 4 ठिकानों पर हो रही छापेमारी में लगभग 56 अधिकारी मिलकर छापेमारी कर रहे हैं.


एक्शन मोड में इनकम टैक्स डिपार्टमेंट


आयकर विभाग के सूत्रों के मुताबिक, आईटी को जानकारी मिली थी कि पॉलिटिकल फंडिंग के बहाने टैक्स चोरी और पैसों की हेराफेरी हो रही है. इसलिए मुंबई के सायन इलाके में झोपड़पट्टियों में छापेमारी शुरू की गई है. सायन इलाके की झोपड़पट्टियों में रेड ने सभी का ध्यान अपनी ओर खींचा है. तो वहीं, 87 छोटी-छोटी राजनीतिक पार्टियों पर पूरे देश में छापेमारी की जा रही है. इसमें ज्यादातर राजनीतिक दलों के पास मान्यता भी नहीं है.



झोपपट्टयों में पार्टी का ऑफिस


दरअसल, झोपड़पट्टी में एक पॉलिटिकल पार्टी (Political Party) का ऑफिस बना हुआ है. ये पॉलिटिकल पार्टी रजिस्टर्ड तो है लेकिन इसे चुनाव आयोग (Election Commission) की मान्यता नहीं मिली है. बैंक रिकॉर्ड (Bank Record) के मुताबिक पिछले 2 सालों में यहां 100 करोड़ का चंदा मिला है. आयकर विभाग (Income Tax Department) को जानकारी मिली थी कि ये राजनीतिक पार्टी 4 से 5 प्रतिशत कमीशन लेकर चंदे (Donation) को कैश में बदल देती थी. इस मामले में कई सीए भी आटी की रडार पर हैं. यह छापेमारी महाराष्ट्र (Maharashtra) के अलावा गुजरात, हरियाणा, यूपी और दिल्ली में भी चल रही है.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.