Monday, 19 September 2022

मुख्यमंत्री ने रीवा के प्रशासनिक अफसरों से कहा- दुष्कर्मियों को नेस्तनाबूत करो, दया-माया दिखाने की जरुरत नहीं है


दोस्त के साथ मंदिर गई किशोरी के साथ आधा दर्जन युवकों द्वारा बंधक बनाकर सामूहिक दुष्कर्म करने के मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कड़ा रुख अपनाया है। उन्होंने प्रशासन के साथ वीडियो कान्फ्रेंसिंग में इस मामले को लेकर चर्चा की और कड़े तेवर में कहा कि आरोपितों को किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाए। उन्हें नेस्तनाबूत कर दिया जाए। आरोपितों के प्रति कोई दया माया दिखाने की जरुरत नहीं है। इस मामले को लेकर रीवा के अफसरों ने उन्हें पूरा अपडेट दिया।


उल्लेखनीय है कि घटना को अंजाम देने वाले छह आरोपितों में शिवम यादव, चंदेश यादव, रामगोपाल यादव और कान्हा सिंह समेत दो नाबालिग शामिल हैं। पुलिस ने तीन आरोपितों शिवम यादव, चंदेश यादव और रामगोपाल यादव को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं दो नाबालिग आरोपितों को पुलिस मुंबई से गिरफ्तार कर ला रही है। वहीं कान्हा सिंह की तलाश की जा रही है। इधर, प्रशासन ने तीन आरोपितों के मकान जेसीबी से जमींदोज कर दिए।


घटना नईगढ़ी थाने के अष्टभुजी माता मंदिर के पास की है।


यहां पर एक किशोरी अपने दोस्त के साथ दोपहर में घूमने के लिए आई थी। मंदिर में दर्शन करने के बाद वे दोनों बैठकर बातचीत कर रहे थे, उसी समय आधा दर्जन युवक वहां पहुंच गए। आरोपित उनको धमकाने लगे और युवक के सामने किशोरी को घसीटकर एकांत स्थान की ओर ले गए। सभी आरोपितों ने उसके साथ दुष्कर्म किया। एक घंटे से ज्यादा समय तक आरोपित उनको बंधक बनाए हुए थे, किशोरी व उसका दोस्त आरोपितों से रहम की भीख मांग रहे थे। लेकिन वे नहीं माने। घटना के बाद उन्होंने किशोरी से मारपीट कर मोबाइल, पायल छीन ली। उनको धमकाते हुए फरार हो गए। किशोरी की हालत खराब होने पर उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.