Saturday, 13 August 2022

Mumbai : चेंबूर में 2000 लोगों के लिए फ्लैट बनाएगी BMC, परियोजनाओं से बेघर हुए लोगों को मिलेगा आशियाना

मुंबई: महाराष्ट्र मेंविभिन्न परियोजनाओं को पूरा करने के लिए बेघर हुए लोगों के लिए बीएमसी चेंबूर में 2 हजार 68 घरों का निर्माण करेगी। इस प्रॉजेक्ट पर 682.74 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। इस योजना से मुंबई महानगर पालिका की विभिन्न विकास परियोजनाओं को तेजी से क्रियान्वित करने में मदद मिलेगी। इससे माहुल में पुनर्वसन के लिए न तैयार होने वालों के पास बेहतर विकल्प होगा।


मुंबई में विकास योजना, परिवहन योजना, जलापूर्ति और सीवेज परियोजनाओं जैसे कई प्रॉजेक्ट के लिए बाधा बन रहे घरों को बीएमसी तोड़ देती है। इस वजह से बेघर हुए लोगों को बीएमसी को वैकल्पिक घर उपलब्ध कराना पड़ता है। परियोजना प्रभावितों के लिए घर उपलब्ध कराने के लिए बीएमसी के बाजार विभाग प्रॉपर्टी डिपार्टमेंट और बाजार विभाग की तरफ से जगह उपलब्ध करा दिए हैं। बीएमसी द्वारा चलाई जा रही विभिन्न परियोजनाओं में करीब 36 हजार मकानों की जरूरत है। वर्तमान में बीएमसी के पास काफी कम घर उपलब्ध हैं।


ऐसे मिलेगा फायदा

परियोजना प्रभावितों की लंबे समय से मांग रही है कि जिस स्थान पर रहते हैं, उसी स्थान पर उन्हें मकान मिले। पीएपी के तहत बीएमसी ने हर जोन में पांच हजार घर बनाने की योजना बनाई है। इससे हर जोन में पांच-पांच हजार घर उपलब्ध होने से परियोजना प्रभावित लोगों को उनके निवास स्थान के करीब मकान उपलब्ध होंगे। बीएमसी प्रदूषण का हवाला देकर माहुल जाने का विरोध करने वालों को घर उपलब्ध कराने के लिए इस योजना पर जोर दे रही है। इससे लोगों के विरोध के कारण रुके हुए प्रोजेक्ट को पूरा करने में मदद मिलेगी।


परियोजना प्रभावितों के लिए ऐसी है योजना

- 25 फ्लोर की 6 बिल्डिंग बनेंगी

- 300 वर्ग फुट के फ्लैट प्रभावितों को उपलब्ध होंगे

- कुल 2068 फ्लैट बनेंगे

- कुल खर्च 682.74 करोड़ रूपये


बीएमसी के पास उपलब्ध विकल्प

- बीएमसी को परियोजना प्रभावितों के लिए मुंबई में अब भी 36 हजार घरों की जरूरत है।

- कई नए प्रस्तावित प्रॉजेक्ट की वजह से घरों की आवश्यकता बढ़कर 50 हजार हो जाएगी।

- माहुल में कुल 17 हजार घरों में से सिर्फ 6 हजार घरों का वितरण।

- अभी करीब पांच हजार घरों का अधिग्रहण होना बाकी है।

- माहुली में करीब सात हजार घर खाली।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.