Monday, 8 August 2022

संजय राउत ने हिरासत में लिख डाला 'सामना' में कॉलम, ED पर भी हमला, अब पूछताछ की तैयारी


पात्रा चॉल घोटाले में ईडी की हिरासत में चल रहे शिवसेना सांसद संजय राउत पार्टी के मुखपत्र सामना में एक कॉलम लिख डाला है। इस कॉलम के छपने के बाद हड़कंप मच गया है और सवाल पूछा जा रहा है कि आखिर हिरासत में होने के बावजूद उन्होंने यह कॉलम कैसे लिखा। अब ईडी इस मामले में संजय राउत से पूछताछ की तैयारी कर रही है।


राउत के इस कॉलम में महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी की ओर से पिछले दिनों महाराष्ट्र के लोगों के संबंध में दिए गए बयान की तीखी आलोचना की गई है। राउत ने कोश्यारी के बयान को महाराष्ट्र का अपमान बताया है। इसके साथ ही राउत ने मराठी लोगों के उद्योगों पर ईडी की ओर से की गई तालाबंदी की कार्रवाई का भी जिक्र किया गया है।


कोर्ट से नहीं मिली थी कोई अनुमति

पात्रा चॉल घोटाले में ईडी ने राउत के खिलाफ शिकंजा कस दिया है। इस घोटाले के संबंध में राउत की पत्नी से भी हाल में लंबी पूछताछ की गई थी। राउत इस मामले में ईडी की कस्टडी में हैं मगर हिरासत की अवधि के दौरान ही उन्होंने सामना में कॉलम लिख डाला है।


एक अंग्रेजी अखबार में छपी खबर के मुताबिक ईडी के सूत्रों का कहना है कि कोर्ट की विशेष अनुमति के बिना राउत इस तरह का कोई कालम नहीं लिख सकते। ईडी सूत्रों का यह भी कहना है कि राउत को कॉलम लिखने के संबंध में कोई विशेष अनुमति नहीं मिली थी। अब ईडी की ओर से इस मामले में राउत से पूछताछ की जाएगी।


राज्यपाल पर साधा निशाना

राउत ने अपने कालम में महाराष्ट्र के राज्यपाल कोश्यारी के हाल में दिए गए बयान पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि मराठी मानुष को महाराष्ट्र के स्वाभिमान के साथ कोई भी खेल बर्दाश्त नहीं है। राज्यपाल ने अपने बयान में कहा है कि मारवाड़ी-गुजराती लोगों को मुंबई से निकाला गया तो मुंबई में पैसा नहीं बचेगा। राउत ने अपने कॉलम में कहा कि मराठी लोगों के साथ ही मुंबई में रहने वाले मारवाड़ी और गुजराती लोगों को भी राज्यपाल का यह बयान पसंद नहीं आया है उन्होंने राज्यपाल के भाषण की तीखी निंदा की है। महाराष्ट्र के लोगों को इस तरह की टिप्पणी स्वीकार नहीं है।


उन्होंने कहा कि अधीर रंजन चौधरी की राष्ट्रपत्नी टिप्पणी को लेकर लाल पीले होने वाले लोगों ने इस बयान का तनिक भी विरोध नहीं किया। यह भी महाराष्ट्र का अपमान ही है। हालांकि कोश्यारी अपने इस बयान के लिए पहले ही सार्वजनिक रूप से माफी मांग चुके हैं मगर राउत ने फिर भी उनके बयान को लेकर निशाना साधा है।


ईडी की कार्रवाई पर भी सवाल

शिवसेना सांसद ने अपने बयान में ईडी का भी जिक्र किया है। उन्होंने कहा कि मराठी लोगों ने अपने दम पर तमाम उद्योग स्थापित किए मगर ईडी ने इन उद्योगों पर ताले लगा दिए हैं। मराठी उद्यमियों के पीछे जांच बैठा दी गई है। महाराष्ट्र के राज्यपाल महोदय को यह सबकुछ नहीं दिखता है। उन्हें कभी इस बारे में भी बोलना चाहिए।


माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में शिवसेना सांसद की मुसीबतें और बढ़ जाएंगी। ईडी लगातार उनके खिलाफ सबूत जुटाने में जुटी हुई है। अब ईडी ने उनकी पत्नी के खिलाफ भी शिकंजा कर दिया है। राउत की पत्नी से आगे भी पूछताछ की जा सकती है।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.