Friday, 12 August 2022

‘मुंबई-नागपुर हाइवे पर सोने की हो रही बरसात’, अफवाह फैली और भीड़ उमड़ पड़ी

मुंबई से औरंगाबाद होते हुए नागपुर जाने वाले हाइवे में किसी ने सोना बरसते हुए देखने का दावा किया तो किसी ने कहा रत्न गिर रहे हैं. थोड़े ही वक्त में यह अफ़वाह जंगल की आग की तरह दूर-दूर तक फैल गई. बुलढाणा जिले के कई लोग अफवाह पर गौर करते हुए हाइवे की तरफ भागे. दरअसल इस वक्त महाराष्ट्र के कई इलाकों में जोरदार बरसात शुरू है. ऐसे में जब यह अफवाह फैली कि पानी की बूंदों में आसमान से सोना बरस रहा है, रत्न बरस रहे हैं तो कई लोगों ने अफवाह को सच समझ लिया.


बुलढाणा जिले से होकर गुजरने वाली मुंबई से औरंगाबाद होती हुई नागपुर जाने वाली सड़क पर डोनगांव के करीब कल यह अफवाह तेजी से फैली. एक ने एक कही तो दूसरे ने दो सुनी, तीसरे को चार बताई. इसके बाद आसमान से सोने और रत्न बरसने की बात जंगल की आग की तरह फैलती ही चली गई. कई लोग हाइवे की तरफ सोना और रत्न बटोरने के लिए भागे. देखते ही देखते हाइवे में इतनी भीड़ जमा हो गई कि कुछ देर के लिए यातायात ठप हो गया.


लोग सड़क पर सोना बटोरते रहे, ट्रक वाले हॉर्न बजाते रहे

डोणगांव की ओर जाने वाली औरंगाबाद नागपुर हाइवे पर सोसाइटी कॉम्प्लेक्स से मादणी काटा तक की सड़क के किनारे कुछ लोगों ने सोने के आभूषण बरसने का दावा किया. जिनको ये सोने और रत्न दिखाई दिए उन लोगों ने उसे बटोरने की शुरुआत की. उनकी बात सुनकर और कई लोग सड़कों की तरफ दौड़े और वहां आकर बैठ कर ऊंगलियां फिरा-फिरा कर सोना तलाशने लगे. इससे राज्य महामार्ग की इस सड़क पर सामने से आती हुई ट्रकों और अन्य गाड़ियां रोक दी गईं. इससे पीछे की तरफ लंबा ट्रैफिक जाम हो गया. ट्रक वाले हॉर्न बजाए जा रहे थे, जबकि स्थानीय लोग सड़क पर बैठ कर सोना ढूंढे जा रहे थे.


पुलिस घटनास्थल पर पहुंची, पड़े हुए आभूषणों की तहकीकात में जुटी

इसके बाद पुलिस घटनास्थल पर पहुंची, पड़े हुए आभूषणों की जांच में जुटी. देखा तो पाया कि ये आभूषण सोने के नहीं बल्कि कुछ और ही हैं. दरअसल ये आर्टिफिशियल ज्वेलरीज निकलीं. अलग-अलग अनुमानों के मुताबिक वहां से गुजरती हुई किसी महिला ने टूट जाने की वजह से वहां फेंक दी होगी. बाइक में जाते वक्त गले और कान से ये आभूषण टूट कर गिरे होंगे. इस तरह वे गिर कर बिखर गए होंगे. एक अनुमान यह भी है कि किसी चेन स्नैचर ने किसी महिला के आभूषण छीने होंगे. जब उसे पता चला होगा कि ये नकली सोने के हैं तो उसने खीजकर इसे फेंक दिए होंगे. खैर, जब यह सच का पता लगा कि ये सोने के नहीं बल्कि नकली सोने के आभूषण हैं तो गांव वालों को निराशा हुई. लेकिन इस बीच दो घंटे से ज्यादा वक्त तक ट्रैफिक जाम बरकरार रहा.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.