Tuesday, 2 August 2022

सिल्ली सोल्स बार मामले में हाईकोर्ट की टिप्पणी के बाद नया खुलासा, स्मृति इरानी के रिश्तेदारों का निवेश उस ‘कंपनी’ में जिसका पता और ‘बार’ का पता एक है

नई दिल्ली: दिल्ली हाईकोर्ट ने कांग्रेस पार्टी को झटका देते हुए कहा है कि केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी और उनकी बेटी उस बार की मालिक नहीं हैं और न ही उन्होंने किसी लाइसेंस के लिए अप्लाई किया.


अदालत ने आगे कहा कि, यह स्थापित किया जा चूका है कि वे (स्मृति ईरानी और उनकी बेटी) रेस्टोरेंट की मालिक नहीं थीं जिसके बारे में विपक्ष की ओर से आरोप लगाए गए थे.


इंडियन एक्सप्रेस की एक खबर के अनुसार, सिल्ली सोल्स गोआ कैफ़े एंड बार का स्मृति ईरानी के परिवार से लिंक होने को लेकर एक नया खुलासा हुआ है.


मामले की जांच कर रहे अधिकारियों ने अख़बार को बताया है कि उनके साथ लगे रिकार्ड्स यह दर्शाते हैं कि केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की बेटी जोइश ईरानी, बेटे ज़ोहर ईरानी, पति जुबिन ईरानी और बेटी शनेल ईरानी उग्राय मर्केंटाइल प्राइवेट लिमिटेड और उग्राय एग्रो फार्म्स प्राइवेट लिमिटेड का मालिकाना हक रखते हैं.


साल 2020-21 में दोनों कंपनियों ने Eightall Food and Beverages LLP में निवेश किया. Eightall की स्थापना दिसम्बर 2020 हुई थी. GSTIN के रिकार्ड्स के अनुसार, Eightall का ‘प्रिंसिपल प्लेस ऑफ़ बिज़नस’ H No 452,ग्राउंड फ्लोर, बौटा वडडो, असागांव, नार्थ गोवा, गोवा बताया गया है.


यही पता सिल्ली सोल्ड गोवा कैफ़े एंड बार का है. इन कंपनियों में स्मृति ईरानी शेयरहोल्डर नहीं हैं.


इंडियन एक्सप्रेस ने जब बार के मालिकों को एक ही पता होने की बात पर सवाल किया तब उनकी ओर से कहा गया कि आप हमारे वकील से बात करें.


जब अखबार ने वकील से इस बारे में जानकारी चाही तब वकील ने कहा कि उनके क्लाइंट ने इस बारे में कुछ भी कहने से मन किया है.


स्मृति ईरानी की ओर से भी इसका कोई जवाब नहीं आया.


खबरों के अनुसार, जस्टिस मिनी पुष्कर्ण की एकल पीठ ने यह टिप्पणी की है. अदालत की ओर से कांग्रेस नेता जयराम रमेश, पवन खेड़ा और नेट्टा डिसूजा को समन जारी कर उनसे जवाब मांगा है.


गौरतलब है कि केंद्रीय मंत्री ने कांग्रेस नेताओं के खिलाफ मानहानि का केस किया है. ईरानी की ओर से कांग्रेस नेताओं को 2 करोड़ रुपये का मानहानि का नोटिस भेजा गया है.


कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में यह भी कहा कि, कांग्रेस नेताओं ने कुछ लोगों के साथ मिलकर झूठी बातें कहीं. साथ ही साथ केंद्रीय मंत्री और उनकी बेटी पर व्यक्तिगत हमलें भी किए गए. अदालत ने माना कि इस वजह से स्मृति ईरानी की छवि धूमिल हुई है.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.