Wednesday, 10 August 2022

महाराष्ट्र कैबिनेट में मंत्री ना बनाने से बच्चू कडू नाराज, सीएम शिंदे से मिले आज

महाराष्ट्र में दो विधायकों वाली एक छोटी पार्टी प्रहार संगठन के प्रमुख बच्चू कडू आज (बुधवार, 10 अगस्त) सीएम एकनाथ शिंदे से उनके निवास में जाकर मिले. बता दें कि शिंदे गुट के समर्थक 50 विधायकों में से 40 विधायक उद्धव गुट से अलग हुए शिवसेना विधायक और 10 निर्दलीय और बच्चू कडू की पार्टी के विधायक हैं. मंत्रिमंडल विस्तार में शिवसेना से 9 और बीजेपी से 9 विधायकों ने शपथ ली है. निर्दलीयों में से किसी को मौका नहीं दिया गया. इससे वे नाराज हैं.सीएम शिंदे से मुलाकात के बाद उन्होंने मीडिया से बात की और स्वीकार किया कि थोड़ी नाराजगी तो है.


बच्चू कडू ने कहा, ‘थोड़ी नाराजगी है, लेकिन इतनी भी नहीं कि गुट छोड़ कर कहीं और चला जाऊं.’ एकनाथ शिंदे और बच्चू कड़ू के बीच सीएम के ठाणे स्थित सरकारी निवास ‘नंदनवन’ में हुई. बता दें कि सीएम ने अब तक मुंबई के मालाबार हिल स्थित सीएम के सरकारी आवास वर्षा बंगले में शिफ्ट नहीं किया है. इसी मुलाकात के बाद बच्चू कडू ने मीडिया से बात की.


नाराज भले मंत्री ना बनाने से हुए, पर कहा यही कि साथ आए मुद्दों के लिए

बच्चू कडू ने कहा,’सीएम शिंदे ने उन्हें मंत्री पद देने का वचन दिया था. इसलिए थोड़ी नाराजगी तो है. लेकिन यह नाराजगी क्षणिक है. आगे चल कर फिर विस्तार होने वाला है. मैंने मंत्रिपद के लिए उनका समर्थन नहीं किया था. कुछ मुद्दों पर समर्थन दिया था.अगर उस मुद्दे पर काम होता हुआ ना दिखाई दे, तब विचार करना पड़ेगा. हमें मंत्रिपद का आश्वासन दिया गया इसीलिए हमने इसकी मांग की है. अगर आश्वासन ना मिला होता तो हमने मंत्रिपद मांगा ही नहीं होता. यह राजनीति है. यहां हमेशा दो और दो चार नहीं कभी-कभी शून्य भी होता है.’


मंत्रिमंडल विस्तार के बाद मीडिया से बात करते हुए बच्चू कडू ने कहा, ‘मैं नाराज हूं, यह मुद्दा नहीं है. सबको लगता है कि वो मंत्री बने. मुझे मंत्रिपद नहीं दिया गया, इसका मतलब हमेशा के लिए ऐसा हुआ, यह बात नहीं है.कुछ दिनों की देर हुई है बस…साथ रहना है तो एक दूसरे को समझ कर चलना पड़ता है.’ बच्चू कडू की यह नाराजगी अब चर्चा का मुद्दा बन रही है.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.