Thursday, 4 August 2022

तटरक्षक बल का रेस्क्यू ऑपरेशन, गुजरात तट पर आशिंक रूप से डूबी नाव से पांच मछुआरों को बचाया

भारतीय तटरक्षक बल (Indian Coast Guard) ने देवभूमि द्वारका (Devbhoomi Dwarka) जिले में गुजरात तट पर आंशिक रूप से डूबी हुई एक नाव से पांच मछुआरों को बचाया है. एक अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि यह अभियान दो और तीन अगस्त की दरम्यानी रात को ओखा बंदरगाह (Okha Port) के निकट चलाया गया. गुजरात में रक्षा पीआरओ कार्यालय (Defense PRO Office) द्वारा जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है, ‘‘तीन अगस्त को रात लगभग 12:45 बजे, ओखा में भारतीय तटरक्षक जिला मुख्यालय को ओखा बंदरगाह (Okha Port) से लगभग 10 समुद्री मील (नॉटिकल माइल) दूर नाव ‘राज आयुषी’ (Raj Ayushi) के आशिंक रूप से डूबने के बारे में सूचना मिली.’’


आईसीजी ने अपने जहाज सी-413 को भेजा

विज्ञप्ति के अनुसार आईसीजी (Indian Coast Guard) ने अपने जहाज सी-413 (Ship C-413) को भेजा. इसके अनुसार नाव के आसपास के क्षेत्र में नौकायन करने वाले कुछ जहाजों को भी जरूरत पड़ने पर सहायता के लिए आईसीजी (Indian Coast Guard) द्वारा सतर्क किया गया था. आईसीजी ने कहा, ‘‘जब आईसीजी जहाज मौके पर पहुंचा तो मछली पकड़ने वाली नाव आंशिक रूप से डूबी हुई थी. देर रात लगभग 02:15 बजे चालक दल के सभी पांच सदस्यों को बचा लिया गया और उन्हें आईसीजी जहाज पर ले जाया गया.’’


क्या है भारतीय तटरक्षक बल?

भारतीय तटरक्षक बल एक बहु-मिशन संगठन है, जो समुद्र में साल भर वास्तविक जीवन संचालन करता है. अपेक्षाकृत छोटा होने के बावजूद, इसमें सतह और वायु संचालन दोनों के लिए कार्य क्षमताओं की एक विस्तृत श्रृंखला है. संगठन का नेतृत्व महानिदेशक भारतीय तटरक्षक (डीजीआईसीजी) करते हैं, जो नई दिल्ली स्थित तटरक्षक मुख्यालय (सीजीएचक्यू) से अपनी संपूर्ण कमान और अधीक्षण का प्रयोग करते हैं.


किसके पास होती है कमान

सीजीएचक्यू में, उन्हें महानिरीक्षक स्तर के चार उप महानिदेशकों और विभिन्न स्टाफ डिवीजनों के प्रमुख अन्य वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा सहायता प्रदान की जाती है. प्रभावी कमान और नियंत्रण के लिए, भारत के समुद्री क्षेत्रों को पांच तटरक्षक क्षेत्रों में विभाजित किया गया है, अर्थात् उत्तर-पश्चिम, पश्चिम, पूर्व, उत्तर-पूर्व और अंडमान और निकोबार, संबंधित क्षेत्रीय मुख्यालय गांधीनगर, मुंबई, चेन्नई में स्थित हैं. तटरक्षक क्षेत्र की कमान महानिरीक्षक स्तर के अधिकारियों के पास होती है.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.