Friday, 5 August 2022

शिवसेना में होगा बड़ा फेरबदल! आदित्य कार्याध्यक्ष तो तेजस ठाकरे संभालेंगे युवा सेना की कमान

शिवसेना में सीएम एकनाथ शिंदे गुट की बगावत के बाद एक बार फिर भारी फेरबदल की संभावनाएं दिखाई दे रही हैं. आदित्य ठाकरे को शिवसेना का कार्याध्यक्ष बनाया जा सकता है और उनके भाई तेजस ठाकरे को भी सक्रिय राजनीति में उतारने की भूमिका तैयार की जा रही है. तेजस ठाकरे के हाथ शिवसेना की यूथ विंग यानी युवा सेना की कमान दी जा सकती है. इस वक्त शिवसेना का उद्धव गुट अपनी पार्टी के अस्तित्व को बचाने की लड़ाई लड़ रहा है. ऐसे में आदित्य ठाकरे महाराष्ट्र भर का दौरा कर मुंबई लौटे हैं.


आदित्य ठाकरे के मुंबई लौटते ही यह खबर एकदम से उछल कर सामने आई है. पिछले ढाई सालों में आदित्य ठाकरे पर्यटन मंत्री, पर्यावरण मंत्री, मुंबई के संरक्षक मंत्री और राजशिष्टाचार मंंत्री का दायित्व संभाल रहे थे. मुख्यमंत्री बने रहते हुए जब उद्धव ठाकरे ने लंबी बीमारी के बाद फेसबुक लाइव के माध्यम से जनता से संवाद किया था तब उन्होंने आदित्य ठाकरे की यह कह कर तारीफ की थी कि उनकी बीमारी की हालत में आदित्य ठाकरे ने काफी हद तक उनकी जिम्मेदारियों को हल्का किया. अब शिवसेना के कार्यकर्ताओं और पार्टी पदाधिकारियों ने यह मांग उठाई है कि शिवसेना के कार्याध्यक्ष के तौर पर आदित्य ठाकरे की जिम्मेदारियां बढ़ाई जाए और तेजस ठाकरे को युवा सेना की कमान सौंपी जाए.


आदित्य को भावी नेता के तौर पर पेश करने की रणनीति

शिवसेना के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों की यह मांग आदित्य ठाकरे को भावी नेता के तौर पर प्रोजेक्ट करने की ओर बढ़ाया गया कदम समझा जा रहा है. ऐसा समझा जा रहा है कि इस मकसद से जल्दी ही शिवसेना में फैसले लिए जाने वाले हैं.


युवा सेना शिवसेना की यूथ विंग है. राज ठाकरे, आदित्य ठाकरे जैसे नेतृत्व युवा सेना से ही सामने आए हैं. इस तरह से तेजस ठाकरे को सक्रिय राजनीति में उतारने से पहले युवा सेना से बेस तैयार करने की तैयारी दिखाई दे रही है. इसलिए उन्हें युवासेना की कमान सौंपने की मांग की जा रही है. इसी तरह आदित्य ठाकरे को भी भावी नेता के तौर पर प्रोजेक्ट करने के लिए पहले उन्हें शिवसेना का नेता पद और फिर कार्याध्यक्ष पद दिए जाने की मांग की जा रही है. रणनीति ऑलमोस्ट फाइनल है. बस अमल में आना बाकी है.


तेजस के नाम के साथ ठाकरे ब्रांड संकट से बाहर निकाल पाएगा?

तेजस नाम के साथ ठाकरे जुड़ा होना शिवसेना मतदाताओं और कार्यकर्ताओं में एक आकर्षण रखता है. लेकिन तेजस ठाकरे खुद अब तक राजनीति से खुद को दूर ही रखते आए हैं. अब अगर वे सक्रिय राजनीति में उतरते हैं तो उनका ठाकरे होना शिवसेना को इस संकट की घड़ी में फिर से खड़ा करने में काम आएगा? शिवसेना के बड़े-बड़े नेता शिंदे गुट के साथ चले गए. ऐसे में शिवसेना के भीतर नया नेतृत्व तैयार करने में वे आदित्य ठाकरे को मदद कर पाएंगे? यह अहम सवाल है.


तेजस ठाकरे ने अपनी तरफ से भी सक्रिय राजनीति में आने की तैयारी दिखाई है. कोल्हापुर दौरा करते हुए उन्होंने कुलस्वामिनी माता एकवीरा देवी का दर्शन किया. लोनावला में भी माता एकवीरा देवी का दर्शन करते हुए उन्होंने शिवसेना पर आए संकट को दूर करने की प्रार्थना की. अब देखना है कि पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे अपने बेटों के कंधों पर कितनी जल्दी ये बड़ी जिम्मेदारियां डालने का ऐलान करते हैं.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.