Monday, 29 August 2022

भारतीय शेयर बाजार में भारी गिरावट का असर, निवेशकों को मिनटों में 4 लाख करोड़ रुपये का हुआ नुकसान

अमेरिकी सेंट्रल बैंक फेड रिजर्व (Federal Reserve) के मुखिया Jerome Powell के ब्याज दरों को और बढ़ाने के संकेतों के चलते सोमवार सुबह दुनियाभर के शेयर बाजारों में कोहराम मच गया. एशियाई बाजारों में भारी बिकवाली देखी गई जिसका खामियाजा भारतीय शेयर बाजार और उसके निवेशकों को भी उठाना पड़ा है. सोमवार को भारतीय बाजार औंधे मुंह जा गिरे. जिसके चलते शेयर बाजार के निवेशकों को करीब 4 लाख करोड़ रुपये की मिनटों में चपत लग गई. 


शुक्रवार भारतीय शेयर बाजार जब बंद हुए तब मुंबई स्टॉक एक्सचेंज का मार्केट कैपिटलाइजेशन (Market Capitalisation) 277 लाख करोड़ रुपये के करीब था. लेकिन सोमवार सुबह बाजार में भारी बिकवाली के चलते बीएसई में लिस्टेड स्टॉक्स का मार्केट कैप 273 लाख करोड़ रुपये के करीब आ गया. दरअसल फेड रिजर्व के प्रमुख Jerome Powell ने कहा है कि महंगाई पर नकेल कसने का खामियाजा आम लोगों से लेकर बिजनेस को महंगे कर्ज के तौर पर उठाना पड़ सकता है. संकेत साफ है अमेरिका में ब्याज दरें और बढ़ने वाले हैं. उनके इस बयान का खामियाजा शेयर बाजार को उठाना पड़ा है. विदेशी निवेशक बिकवाली कर रहे हैं. 


सुबह भारतीय बाजार भी गिरावट के साथ खुले थे. सेंसेक्स 1466 तो निफ्टी करीब 400 अंक गिरकर खुला था. हालांकि बाजार ने निचले लेवल से वापसी की है. फिलहाल सेंसेक्स 740 और निफ्टी 250 अंकों की गिरावट के साथ कारोबार कर रहा है. लेकिन भारतीय बाजार की चिंता है कि अमेरिका में ब्याज दरें बढ़ती हैं तो बारत में आरबीआई में ब्याज दरों में इजाफा कर सकता है. 


अमेरिकी फेड रिजर्व के मुखिया के बयान के बाद रुपया डॉलर के मुकाबले फिर से कमजोर होता नजर आ रहा है. ये केवल इसलिए क्योंकि विदेशी निवेशक फिर से निवेश वापस खींच सकते हैं. 

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.