Friday, 26 August 2022

'घमंडी हैं विजय देवरकोंडा', मुंबई के थियेटर मालिक ने लाइगर एक्टर पर क्यों जताया गुस्सा

साउथ के जाने माने एक्टर विजय देवरकोंडा और अनन्या पांडे की फिल्म लाइगर सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। दर्शकों को लंबे समय से फिल्म रिलीज का इंतजार था। हालांक फिल्म को दर्शकों के मिले जुले रिव्यू मिल रहे हैं। जहां फिल्म की जमकर तारीफ हो रही हैं तो वहीं ऐसे लोगों की भी कमी ने जो फिल्म में कमियां निकाल रहे हैं। 


विजय देवरकोंडा की फिल्म से इतर मुंबई के एक थियेटर के मालिक मनोज देसाई ने एक्टर पर नाराजगी जताते हुए उन्हें घमंडी बताया। गेयटी गैलेक्सी और मराठा मंदिर सिनेमा के कार्यकारी निदेशक मनोज देसाई ने हाल ही में बॉयकॉट ट्रेंड पर की गई विजय देवरकोंडा के कमेंट्स की आलोचना की। इसके साथ ही फिल्म रिलीज के बाद मिल रहे नेगेटिव कमेंट्स के लिए भी उन्होंने एक्टर पर नाराजगी जाहिर की। 


इस बात पर जताई नाराजगी


उन्होंने विजय देवरकोंडा पर नाराजगी जताते हुए कहा, ''हमारी फिल्म को बॉयकॉट करो' ये कहकर आप स्मार्टनेस क्यों दिखा रहे हैं? लोग ओटीटी पर भी फिल्म नहीं देखेंगे। आपके इस तरह के व्यवहार ने हमें मुश्किल में डाल दिया है और इसका असर हमारी एडवांस बुकिंग को प्रभावित कर रहा है। मिस्टर विजय आप 'कोंडा कोंडा' नहीं एनाकोंडा हैं। आप एनाकोंडा की तरह बात कर रहे हैं। 'विनाश काले विपरीत बुद्धि', जब विनाश का समय करीब आता है, तो मन काम करना बंद कर देता है, और आप वह कर रहे हैं। वैसे भी, यह आपकी इच्छा है।' मालूम हो कि फिल्म ने पहले दिन 27 करोड़ रुपये की कमाई की है। फिल्म ने तेलुगू भाषा में 24.5 करोड़ का कारोबार किया है। वहीं फिल्म ने दूसरी भाषाओं में ओपनिंग डे पर 2.50 करोड़ का ही बिजनेस किया है। 


'आप घमंडी हो गए हो..'


मनोज देसाई ने विजय देवरकोंडा के बारे में बात करते हुए कहा कि लगता है आप घमंडी हो गए हैं। फिल्म देखनी है तो देखो वर्ना मत देखो। आपने इसका प्रभाव नहीं देखा क्या। अगर दर्शक फिल्म नहीं देखेंगे तो देखिए तापसी पन्नू, आमिर खान और अक्षय कुमार को वो किस चीज से गुजर रहे हैं। मुझे फिल्म से काफी उम्मीदें थीं। लेकिन ऐसे बयानों का गलत असर होता है। 


विजय देवरकोंडा ने कही थी ये बात


मालूम हो कि हाल ही में फिल्म को बॉयकॉट करने की मांग सोशल मीडिया पर उठ रही थी। इसे लेकर जब विजय से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा था, ' कौन रोकेंगे देख लेंगे। मुझे लगता है कि डर की कोई जगह नहीं है, जब मेरे पास कुछ नहीं था  तब भी मुझे डर नहीं था। अब कुछ हासिल करने के बाद, मुझे नहीं लगता कि अब भी डरने की जरूरत है। मेरे पास मां का आशीर्वाद है, लोगों का प्यार है, भगवान का सहारा है, हमारे अंदर एक आग है, हम देखेंगे कि हमें कौन रोकेगा!'

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.