Sunday, 14 August 2022

अलविदा राकेश झुनझुनवाला:शेयर इन्वेस्टमेंट से 37 साल में 46 हजार करोड़ का एम्पायर बनाया



 दलाल स्ट्रीट के बिग बुल राकेश झुनझुनवाला का आज सुबह निधन हो गया। मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल ने सुबह 6 बजकर 45 मिनट पर राकेश झुनझुनवाला की मौत की पुष्टि की। 5 हजार रुपए से 5.8 अरब डॉलर (करीब 46.18 हजार करोड़ रुपए) का सफर तय करने वाले शेयर बाजार के बिग बुल राकेश झुनझुनवाला 62 साल के थे।

झुनझुनवाला ने पिछले हफ्ते ही 'अकासा' एयरलाइन के साथ एविएशन सेक्टर में भी एंट्री ली थी। झुनझुनवाला एक समय में स्टॉक मार्केट में बियर थे यानी मंदड़िए। उन्होंनें 1992 में हर्षद मेहता घोटाले का खुलासा होने पर शॉर्ट सेलिंग के जरिए बड़ा मुनाफा कमाया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया- राकेश झुनझुनवाला जिंदादिल, मजाकिया और दूरदृष्टि वाले इंसान थे। वे भारत की प्रगति को लेकर बेहद उत्साहित रहते थे। उनका जाना बेहद दुखद है। मेरी संवेदनाएं उनके परिवार के साथ हैं।





5 बातें जो जानना है जरूरी

राकेश झुनझुनवाला, जिन्हें अक्सर भारत का वारेन बफे कहा जाता है, का जन्म 5 जुलाई 1960 को हैदराबाद में हुआ था और वे मुंबई में पले-बढ़े. 

सिडेनहैम कॉलेज से ग्रेजुएशन करने के बाद, उन्होंने इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया में दाखिला लिया और रेखा झुनजुनवाला से शादी की, जो एक शेयर बाजार निवेशक भी थीं.

मिस्टर झुनझुनवाला भारत के शेयर बाजार के बारे में बुलिश होने के लिए जाने जाते थे और उन्होंने जो भी स्टॉक खरीदा वह ज्यादातर मल्टीबैगर में बदल गया.

झुनझुनवाला रेयर एंटरप्राइजेज नामक एक निजी स्वामित्व वाली स्टॉक ट्रेडिंग फर्म चलाते थे. उन्होंने भारत की नवीनतम एयरलाइन अकासा एयर का भी समर्थन किया, जिसने इस महीने की शुरुआत में भारतीय आसमान में उड़ान भरी थी. 

यह पूछे जाने पर कि जब विमानन क्षेत्र अच्छा नहीं कर रहा था तो उन्होंने उद्यम क्यों शुरू किया. तब उन्होंने जवाब दिया था, "मैं कहता हूं कि मैं विफलता के लिए तैयार हूं."


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.