Tuesday, 19 July 2022

Mumbai : मुंबई में BEST बसों के ड्राइवरों ने सोमवार को अचानक की हड़ताल, यात्रियों को आने-जाने में हुई परेशानी

Mumbai : मुंबई शहर में बृहन्मुंबई इलेक्ट्रिक सप्लाई एंड ट्रांसपोर्ट (BEST) बसों से यात्रा करने वाले हजारों यात्रियों को सोमवार को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा. दरअसल वडाला बस डिपो में वेट लीज बसों के 30 ड्राइवरों अचानक हड़ताल पर चले गए थे. इस बस डिपो से 69 बसें नहीं निकलीं. ऐसे में इन बसों से सफर करने वाले यात्रियों को आने-जाने में परेशानी का सामना करना पड़ा.



बेस्ट ने डिपो से 23 एक्स्ट्रा बसें भी चलाई

गौरतलब है कि वेट लीज बसें बेस्ट के स्वामित्व में नहीं आती हैं, संगठन द्वारा उन कॉन्ट्रेक्टर्स को भुगतान किया जाता है जो बसों, ड्राइवरों और कंडक्टरों को संचालित करते हैं.वहीं सोमवार को अचानक वडाला बस डिपो के वेट लीज बसों के 30 ड्राइवरों के हड़ताल पर जाने से अनुपलब्ध बसों की भरपाई के लिए बेस्ट ने डिपो से 23 अतिरिक्त बसें चलाई.



इस बात से नाराज हैं ड्राइवर

वहीं इस दौरान यात्रियो का काफी परेशानी उठानी पड़ी. कई यात्रियों ने बसों मे ज्यादा भीड़ होने और देर से चलने की शिकायत की. इधर बेस्ट ने बताया कि, रविवार को ड्यूटी पर कुछ ड्राइवर देर से पहुंचे थे इस कारण अधिकारियों द्वारा उनसे पूछताछ की गई थी. इसी बात को लेकर ड्राइवर नाराज हो गए थे. रविवार को वेट लीज बसों के चालकों ने भी विरोध किया था. नतीजतन, 43 बसें वडाला बस डिपो से नहीं निकलीं थी.



ड्राइवरों की हड़ताल से अधिकारी भी हैरान

वहीं मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बेस्ट के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि, “पहले, मुद्दा वेतन भुगतान में देरी का था, जिसके कारण इस तरह की हड़तालें आयोजित की जाती थीं, लेकिन उस पर ध्यान दिया गया. यह हड़ताल हमारे लिए भी हैरानी की बात है. ठेकेदार को इस मुद्दे को तुरंत हल करने के लिए कहा गया है.”



बेस्ट ने वेट लीज ठेकेदार को नोटिस जारी किया है

बता दें कि बेस्ट ने वेट लीज ठेकेदार को नोटिस दिया है और उनसे प्रति बस ₹ 5,000 का जुर्माना वसूला जा रहा है. बेस्ट के जनरल मैनेजर लोकेश चंद्र ने कहा कि, “संगठन ने अतिरिक्त बसों का संचालन किया है और ऐसा कोई रूट नहीं है जिसमें बसें नहीं हैं. हमने उनसे इस मुद्दे को तुरंत हल करने के लिए कहा है.”



बेस्ट ने वेट लीज ठेकेदार को नोटिस जारी किया है

बता दें कि बेस्ट ने वेट लीज ठेकेदार को नोटिस दिया है और उनसे प्रति बस ₹ 5,000 का जुर्माना वसूला जा रहा है. बेस्ट के जनरल मैनेजर लोकेश चंद्र ने कहा कि, “संगठन ने अतिरिक्त बसों का संचालन किया है और ऐसा कोई रूट नहीं है जिसमें बसें नहीं हैं. हमने उनसे इस मुद्दे को तुरंत हल करने के लिए कहा है.”



Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.