Friday, 15 July 2022

Maharashtra: डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस और राज ठाकरे के बीच हुई मुलाकात, क्या अमित ठाकरे शिंदे सरकार में बनेंगे मंत्री?

महाराष्ट्र : महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Deputy CM Devendra Fadnavis) ने आज (15 जुलाई, शुक्रवार) को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे (Raj Thackeray MNS) से मुलाकात की. राज ठाकरे के मुंबई के दादर स्थित निजी निवास शिवतीर्थ में दोनों के बीच डेढ़ घंटे तक चर्चा हुई. एकनाथ शिंदे और देवेंद्र फडणवीस की सरकार बनने के बाद और मंत्रिमंडल के विस्तार से पहले इस मुलाकात (Maharashtra Politics) को लेकर लोगों की नजरें लगी हुई हैं. अधिकृत तौर पर यही बताया गया है कि हाल ही में राज ठाकरे की एक सर्जरी हुई है. इसलिए उनकी तबीयत का हाल-चाल लेने फडणवीस राज ठाकरे से मिलने गए थे.


राज ठाकरे से मुलाकात के बाद देवेंद्र फडणवीस सिद्धि विनायक मंदिर में भगवान गणपति का दर्शन करने पहुंचे. यहां उनके साथ विधान परिषद के सदस्य और बीजेपी नेता प्रसाद लाड मौजूद रहे. सिद्धि विनायक मंदिर में उप मुख्यमंत्री फडणवीस ने गणपति बप्पा का दर्शन किया और उनसे आशीर्वाद लिया. अब थोड़ी देर में सीएम एकनाथ शिंदे भी सिद्धि विनायक मंदिर जाकर गणपति बप्पा का दर्शन करने वाले हैं.


दो दिग्गजों के दिल मिले, मुलाकात हुई…मंत्रिमंडल विस्तार से पहले क्या बात हुई

देवेंद्र फडणवीस का राज ठाकरे के निवास में काफी गर्मजोशी से स्वागत किया गया. राज ठाकरे की पत्नी शर्मिला ठाकरे ने ढाई साल बाद बीजेपी की सरकार फिर बनने की शुभकामनाएं देते हुए आरती की थाल लेकर उनका तिलक किया, औक्षण किया और भगवा शॉल ओढ़ाया. फडणवीस और राज ठाकरे की दोस्ती बहुत पुरानी है. इससे पहले फडणवीस राज ठाकरे के नए घर में गृह प्रवेश की पूजा के बाद आए थे.


इस मुलाकात को लेकर कई तरह के अनुमान लगाए जा रहे हैं. बताया जा रहा है कि राज ठाकरे के बेटे अमित शाह को शिंदे मंत्रिमंडल में लेकर शिंदे सरकार शिवसेना को एक और झटका देने की तैयारी में है. ठाकरे सरकार के दौरान उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे को पर्यटन, पर्यावरण, राज शिष्टाचार और मुंबई का संरक्षक मंत्री बनाया गया था. आदित्य ठाकरे को महा विकास आघाड़ी सरकार में काफी तवज्जो दी जा रही थी. अब शिंदे सरकार में इसके टक्कर में राज ठाकरे के बेटे अमित ठाकरे को मंत्रिमंडल में शामिल कर आदित्य ठाकरे के टक्कर में उन्हें खड़ा किया जा सकता है.


BMC चुनाव से पहले राज-फडणवीस का मिलन, शिवसेना के ठाकरे कैंप में बढ़ी टेंशन

इस मुलाकात को लेकर एक और चर्चा फिर से शुरू हो गई है. मुंबई महानगरपालिका का चुनाव करीब है. इस चुनाव में शिंदे-फडणवीस ग्रुप उद्धव ठाकरे गुट के हाथ से बीएमसी की सत्ता छीन लेने के मूड में है. ऐसे में मराठी माणूस और मराठी भाषा की राजनीति में राज ठाकरे की पार्टी एमएनएस और बीजेपी-शिंदे गुट में गठबंधन हो जाता है या एक दूसरे को पर्दे के पीछे मदद करने का कोई समझौता हो जाता है तो शिवसेना को उसके गढ़ से उखाड़ने में बीजेपी की रणनीति कामयाब हो सकती है.


बता दें कि बीजेपी एमएनएस के साथ खुल कर गठबंधन करने में हिचकती रही है. दरअसल राज ठाकरे का उत्तर भारतीयों के खिलाफ मुहिम का जो इतिहास रहा है, उसे देखते हुए बीजेपी अपने उत्तर भारतीय वोटरों की नाराजगी मोल लेने का रिस्क नहीं उठाना चाहती. लेकिन राज ठाकरे हाल ही में हुए राज्यसभा चुनाव, विधान परिषद के चुनाव से लेकर विश्वास मत के प्रस्ताव तक खुल कर बीजेपी का सपोर्ट कर रहे हैं. उनकी राजनीति भी अब उत्तर भारतीयों के विरोध के मुद्दे से हट कर हिंदुत्व के मुद्दे को लेकर शुरू हुई है. उद्धव ठाकरे के महा विकास आघाड़ी में चले जाने के बाद राज ठाकरे को बीजेपी के कैंप में लाने में फडणवीस कामयाब हुए हैं.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.