Thursday, 21 July 2022

Gautam Adani ने एसबीआई से उधार में मांगे 14 हजार करोड़, कर रहे हैं बड़ी प्लानिंग

एशिया के सबसे अमीर अरबपति गौतम अडानी (Gautam Adani) ने देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई (SBI) से 14 हजार करोड़ रुपये का कर्ज मांगा है. यह कर्ज गुजरात के मुंद्रा में एक पीवीसी प्लांट लगाने में खर्च किया जाएगा. वैसे इस प्रोजेक्ट की शुरुआती बजट 19 हजार करोड़ रुपये है. अडानी ग्रुप (Adani Group) डेट और इक्विटी के जरिये रुपया जुटाने की योजना बना रहा है. इस प्रोजेक्ट को अडानी इंटरप्राइजेज (Adani Enterprises) का सपोर्ट है. आपको बता दें कि अडानी ग्रुप पर पहले से ही करीब सवा दो लाख करोड़ रुपये का कर्ज है.


इन प्रोजेक्ट्स के लिए भी लिया हुआ कर्ज

अडानी ग्रुप ने पहले से ही कई प्रोजेक्ट्स के लिए मोटा कर्ज लिया हुआ है. अडानी एंटरप्राइजेज की कंपनी नवी मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट ने मार्च में बैंकों से 12,770 करोड़ रुपये जुटाए थे. उसके बाद हाल ही में कंपनी ने मुंद्रा में अपने ग्रीनफील्ड कॉपर रिफाइनरी प्रोजेक्ट के लिए 6,071 करोड़ रुपये का कर्ज लिया था. वहीं पीवीसी प्रोजेक्ट के लिए लोन अभी विचाराधीन है.


अंडरराइट होगा लोन

जानकारों की मानें तो नवी मुंबई एयरपोर्ट की ओर से लिए लोग की तरह इस लोन को भी अंडरराइट कर दिया जाएगा. इसके अलावा लोन का कुछ हिस्सा नवी मुंबई एयरपोर्ट की तरह दूसरे बैंकों को बेचा जाएगा. नवी मुंबई एयरपोर्ट के मामले में अधिकांश लोन दूसरे बैंकों ने एसबीआई से ले लिया है. जानकारों के अनुसार पीवीसी प्रोजेक्ट के मामले में एसबीआई करीब 5000 करोड़ रुपये अपने लोन बुक में रखेगा.


अभी कितना है अडानी ग्रुप पर कुल लोन

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अडानी ग्रुप का कर्ज फाइनेंशियल ईयर 2021-22 में 40.5 फीसदी बढ़कर 2.21 लाख करोड़ रुपये पर पहुंचा. पिछले फाइनेंशियल ईयर में यह कर्ज 1.57 लाख करोड़ रुपये था. फाइनेंशियल ईयर 2021-22 में अडानी एंटरप्राइजेज के कर्ज में सबसे ज्यादा 155 फीसदी बढ़ोतरी देखने को मिली. इस दौरान कंपनी का कर्ज बढ़कर 41,024 करोड़ रुपये पर पहुंचा. वहीं दूसरी ओर अडानी पॉवर और अडानी विल्मर के कर्ज में कमी देखने को मिली. अडॉनी पावर की उधारी 2021-22 में 6.9 फीसदी घटकर 48,796 करोड़ रुपये पर आ गई है. अडानी विल्मर का कर्ज 12.9 फीसदी घटकर 2568 करोड़ रुपये रह गया.

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.