Friday, 22 July 2022

दीनदयाल पोर्ट अथॉरिटी का २ मेगा परियोजनाओं के विकास पर सम्मेलन-सह-इंटरैक्टिव सत्र एक उच्च नोट पर संपन्न हुआ

•दीनदयाल पोर्ट अथॉरिटी का २ मेगा परियोजनाओं के विकास पर सम्मेलन-सह-इंटरैक्टिव सत्र एक उच्च नोट पर संपन्न हुआ.

•प्राधिकरण को संभावित बोलीदाताओं और हितधारकों से सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली.

इंडिया (मुबई): दीनदयाल पोर्ट अथॉरिटी, भारत की प्रथम क्रमांकित कार्गो हैंडलिंग प्रमुख पोर्ट ने कंटेनर

टर्मिनल के विकास पर संभावित बोलीदाताओं, हितधारकों और मीडिया को विस्तार में अवगत करने के लिए २

मेगा परियोजनाओं और टूना-टेकरा, कांडला में बहुउद्देशीय कार्गो बर्थ के विकास पर एक सम्मेलन-सह-इंटरैक्टिव

सत्र का आयोजन किया। यह एक दिवसीय सत्र १८ जुलाई २०२२ को होटल ट्राइडेंट, मुंबई में आयोजित किया

गया था और इसमें विभिन्न उद्योग जगत के नेताओं और प्रख्यात मीडिया कर्मियों की भागीदारी देखी गई थी।

सम्मेलन का आयोजन बंदरगाह पर दो आगामी मेगा परियोजनाओं को विकसित करने के लिए चर्चा, नेटवर्क और

विचारों को प्रस्तुत करने के लिए एक मंच प्रदान करने के उद्देश्य से किया गया था। रु. ५,९६३ करोड़ के अनुमानित

लगत से दो मेगा कार्गो हैंडलिंग टर्मिनलों को पीपीपी मोड के तहत बीओटी आधार पर विकसित किये जाएंगे।

श्री एस के मेहता, आईएफएस, अध्यक्ष, दीनदयाल पोर्ट अथॉरिटी ने सम्मेलन को संबोधित किया और

आगामी मेगा परियोजनाओं की विभिन्न विशेषताओं और लाभों का प्रस्तुत किया। दीनदयाल पोर्ट की

विकासात्मक परियोजनाओं में सार्वजनिक निजी भागीदारी (पीपीपी) को बढ़ावा देते हुए अध्यक्ष ने कहा,

“डीपीए विकास के अपार अवसर और संभावनाएं प्रदान करता है। मैं यहां व्यापारिक बिरादरी और समुद्री

क्षेत्र में सक्रिय रूप से शामिल इच्छुक उद्यमियों को इन दो मेगा परियोजनाओं के लिए निविदा में भाग लेने

और व्यापार और राष्ट्र के समग्र लाभ के लिए पारस्परिक हित में डीपीए के साथ हाथ मिलाने के लिए

आमंत्रित करता हूं। मैं समुद्री क्षेत्र के सभी इच्छुक निवेशकों और हितधारकों से इस संबंध में अपने सुझाव

और विचार रखने का भी अनुरोध करता हूं।

सम्मलेन में भागदारोंको की मजबूत प्रतिक्रिया देखी गई और सम्मेलन में गहन इनपुट और स्वस्थ चर्चा के साथ

१५० से अधिक उद्यमियों ने भाग लिया। इसके अलावा विदेश से लगभग ०७ अंतर्राष्ट्रीय भगधराक और दूतावास

के दो भगधराक भी वस्तुतः सम्मेलन में शामिल हुए और डीपीए की गतिशील पहल की सराहना की। इन प्रमुख

परियोजनाओं के माध्यम से, डीपीए प्रति वर्ष २०० मिलियन मीट्रिक टन को संभालने के अपने महत्वाकांक्षी लक्ष्य

को प्राप्त करने के लिए तत्पर है।

दीनदयाल पोर्ट अथॉरिटी के बारे में:

दीनदयाल पोर्ट की यात्रा १९३१ में महाराव खेंगरजी द्वारा आरसीसी जेट्टी के निर्माण के साथ शुरू हुई थी। कांडला, जिसे

दीनदयाल पोर्ट अथॉरिटी (गुजराती: કંડલા) के रूप में भी जाना जाता है, गांधीधाम शहर के पास, पश्चिमी भारत में गुजरात


राज्य के कच्छ जिले में एक बंदरगाह है। कच्छ की खाड़ी पर स्थित यह पश्चिमी तट के प्रमुख बंदरगाहों में से एक है। कांडला

बंदरगाह का निर्माण १९५० के दशक में भारत के विभाजन के बाद पश्चिमी भारत की सेवा करने वाले मुख्य बंदरगाह के रूप

में किया गया था। विभाजन के बाद, दीनदयाल पोर्ट की सफलता की कहानी जारी है, और यह वर्ष २००७-०८ में भारत में

नंबर १ प्रमुख बंदरगाह तक पहुंच गया और तब से लगातार १५ वर्षों तक इस स्थिति को बरकरार रखा। ३१.०३.२०१६ को,

दीनदयाल पोर्ट ने एक वर्ष में १०० एमएमटी कार्गो को संभाल कर इतिहास रच दिया – और ऐसा मील का पत्थर हासिल

करने वाला पहला प्रमुख बंदरगाह बना। पोर्ट, बल्क और ब्रेक बल्क से लेकर लिक्विड और कंटेनर तक, सभी प्रमुख प्रकार के

कार्गो को संभालता है।

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.