Friday, 22 July 2022

'वे देशद्रोही हैं और हमारी पीठ में छुरा घोंपा, अब भी अगर जरा सी शर्म हो तो...': आदित्य ठाकरे

मुंबई: मुंबई के बाहर अपने पहले बड़े आउटरीच समारोह में, शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे ने बृहस्पतिवार को ठाणे में एक सभा की, जो सीएम एकनाथ शिंदे (Eknath Shide) का गढ़ है। यह उनका, शिंदे और पार्टी के एक बड़े वर्ग के विद्रोह के पश्चात् सेना कैडर को एकजुट करने की कोशिश है। आदित्य के प्रति वफादार ठाणे के शिवसेना कार्यकर्ताओं ने ठाणे टोल नाका पर उनके समर्थन का एक मजबूत समर्थन दिखाया, जब वे यहां पहुंचे। आदित्य, 4 जिलों- ठाणे, नासिक, अहमदनगर एवं औरंगाबाद की अपनी तीन दिवसीय 'शिव संवाद यात्रा' पर हैं, जहां वह उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना के लिए समर्थन को एकजुट करने के प्रयास में लगे हैं।


उन्होंने ठाणे के भिवंडी एवं शाहपुर में बैठकें कीं, जहां शिंदे का पर्याप्त जनाधार है। शिवसेना के शिंदे गुट को 'देशद्रोही' बताते हुए आदित्य ने भिवंडी में बोला, 'वे देशद्रोही हैं एवं हमारी पीठ में छुरा घोंपा। अब जरा भी शर्म बची हो तो विधायक पद से इस्तीफा दे दो तथा चुनाव का सामना करो। हालांकि, उन्होंने यह भी बोला कि यदि कोई ठाकरे गुट में लौटता है, तो "मातोश्री (ठाकरे का निजी निवास) के दरवाजे खुल जाएंगे क्योंकि हमारा दिल बड़ा है"। आदित्य ने कहा कि “हम लोगों के लिए कार्य करते रहे किन्तु हमने एक गलती की…हम राजनीति नहीं कर सके। न तो हम विपक्षी विधायकों के पीछे गए तथा उन्हें परेशान किया और न ही हमने अपने विधायकों और सांसदों की गतिविधियों पर नजर रखी क्योंकि हमें उन पर विश्वास था। हमने उन (विद्रोहियों) पर जो भरोसा किया है, उसने आज हमें इस हालत में पहुंचा दिया है।"


आदित्य ठाकरे ने कहा कि "हमें राजनीति में मानवता चाहिए।।।गंदी राजनीति बंद होनी चाहिए क्योंकि इससे देश में तबाही मचेगी।" रैली में आदित्य ने कहा, “मैं इस यात्रा को आरम्भ कर रहा हूं तथा जनता का आशीर्वाद लेने के लिए भिवंडी आया हूं। मैं शिवसेना एवं महाराष्ट्र को नए सिरे से बनाने के लिए निकल पड़ा हूं।” युवा सेना प्रमुख ने कहा- “MVA सरकार ने प्रदेश में विकास कार्य किए थे। मगर मौजूदा सरकार में मंत्रिमंडल में केवल दो सदस्य हैं (शिंदे और फडणवीस)। प्रदेश बाढ़ का सामना कर रहा है, मगर इस बीच, वे (विद्रोही) हमारे शिवसैनिकों को धमकाने का प्रयास कर रहे हैं जिससे वे साइड बदल सकें। मगर हमारे शिवसैनिक इस प्रकार के हथकंडों पर ध्यान नहीं देते। मुझे भरोसा है कि यह सरकार गिर जाएगी। यह अवैध तौर पर बनाया गया था।”

Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.