Saturday, 30 July 2022

अभिनेता रसिक दवे का किडनी फेल होने से हुआ निधन

नई दिल्ली: फेमस टीवी और फिल्म अभिनेता रसिक दवे का निधन हो गया। उन्होंने मुंबई में ही अपनी आखिरी सांस ली। रसिक दवे को ‘महाभारत’ के कैरेक्टर ‘नंदा’ के लिए जाना जाता था। हालांकि, उन्होंने इसके अलावा कई सारे गुजराती नाटकों, गुजराती फिल्मों और कई सारे सीरियल्स में भी काम किया था। इन सबके अलावा वो फेमस अभिनेत्री केतकी दवे के पति थे।वो तकरीबन दो साल से डायलिसिस पर थे और हफ्ते में तीन बार उन्हें अस्पताल के चक्कर काटने पड़ते थे दो साल से डायलिसिस पर थे रसिक दवे

रसिक दवे पिछले दो साल से ज्यादा समय से मुंबई के एक अस्पताल में डायलिसिस पर थे. उनकी दोनों ही किडनियां फेल हो घई थीं। वो हर हफ्ते में तीन बार इलाज के लिए अस्पताल जाते थे, लेकिन पिछले कुछ दिनों से उनकी तबीयत बहुत ज्यादा ही खराब थी। उनका मुंबई के ही एक अस्पताल से इलाज चल रहा था. रसिक दवे ने कई सारे गुजराती नाटकों और फिल्मों में काम तो किया ही बल्कि उन्होंने कई गुजराती नाटकों का निर्देशन और निर्माण भी किया था।


रसिक दवे को आखिरी बार कलर्स टीवी चैनल के सीरियल ‘संस्कार-धारोहर अपनों की’ में देखा गया था। इस सीरियल में उन्होंने करसनदास धनसुखलाल वैष्णव की भूमिका निभाई थी. ये शो केशवगढ़ में रहने वाले एक आज्ञाकारी और संस्कारी बेटे की कहानी को बयां करता था और परिवार के सदस्यों को एकजुट करने के लिए समर्पित था।


रसिक दवे इससे पहले सोनी टीवी के सबसे लंबे समय तक चलने वाले शो ‘एक महल हो सपनों का’ में नजर आए थे। ये शो 1000 एपिसोड पूरा करने वाला पहला हिंदी शो माना जाता है। ये शो एक गुजराती बिजनेस टायकून के इर्द-गिर्द घूमता है, जो कि अपने चार बेटों के साथ रहता है. इस शो में रसिक दवे ने इकलौते बेटे शेखर की भूमिका निभाई थी। इसके अलावा उन्हें दूरदर्शन पर टेलीकास्ट होने वाले फेमस शो ‘ब्योमकेश बख्शी’ में देखा गया था. ये शो एक फेमस जासूस पर आधारित कहानी थी। रसिक दवे ने टीवी के अलावा कई फिल्मों में भी काम किया जिनमें 4 टाइम्स लकी, स्ट्रेट, जयसुख काका और मासूम, ईश्वर, जूठी अहम हैं. उनकी पत्नी केतकी दवे भी टीवी और फिल्मों की एक जानी-मानी अभिनेत्री हैं। उन्होंने ‘क्यूंकि सास भी कभी बहू थी’ और फिल्म ‘कल हो न हो’ में सैफ अली खान की मां का रोल किया था. इन दोनों स्टार की एक बेटी बी हैं जिनका नाम रिद्धि दवे है।


Lorem ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry.